• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • प्रधानपति ने बैंक मित्र की मिलीभगत से मनरेगा मजदूर के खाते से उड़ाए रूपये, डीएम ने करवाया गिरफ्तार

प्रधानपति ने बैंक मित्र की मिलीभगत से मनरेगा मजदूर के खाते से उड़ाए रूपये, डीएम ने करवाया गिरफ्तार

इलाहबाद यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर शाहिद सहित 30 लोग गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो)

इलाहबाद यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर शाहिद सहित 30 लोग गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो)

पीड़ित मजदूर सुभाष निषाद ने डीएम जौनपुर दिनेश कुमार सिंह (DM Jaunpur Dinesh Kumar Singh) को बताया कि उसकी मजदूरी के 4 हजार 9 सौ रूपये ग्राम प्रधान के पति ने निकालकर उसमें से केवल चार सौ रूपये उसे प्राप्त कराए हैं.

  • Share this:
जौनपुर. महामारी (Pandemic) कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दिहाड़ी मजदूरों, रोज कमाने-खाने वालों के सामने भुखमरी की समस्या एक विकराल रूप लेकर खड़ी हो गई. सरकार एक तरफ इन गरीब परिवारों की मदद में तमाम इन्तजाम कर रही है जिसमें आमजन भी अपना सहयोग दे रहे हैं लेकिन कुछ ग्राम प्रधान इस संकट की घड़ी में भी गरीबों का खून चूसने का काम कर रहे हैं. गरीबों के हक पर डाका डालने वाले एक ऐसे ही ग्राम प्रधान के पति को जौनपुर डीएम ने गिरफ्तार करवाकर जेल भेजने का आदेश दिया है.

मजदूर की फ़रियाद पर डीएम ने लिया एक्शन
दरअसल इस प्रधानपति पर आरोप है कि इसने बैंक मित्र की मिलीभगत से मनरेगा मजदूर के खाते से पैसे उड़ा लिए. जिलाधिकारी का हुक्म मिलते ही पुलिस आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद आगे की कार्यवाही में जुट गई है. पूरा मामला जौनपुर जिले के लाइन बाजार थाना के पचोखर गांव का है. कोरोना महामारी को देखते हुए सरकार ने मनरेगा के तहत गांव में सम्पादित कराए गए कार्यों का भुगतान मजदूरों को डायरेक्ट उनके खातों में भेज दिया है. जौनपुर जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह को सूचना मिली कि पचोखर गांव की प्रधान का पति पहाड़ी यादव बैंक मित्र की मिली भगत से मजदूरों का पैसा निकाल ले रहा है. पीड़ित मजदूर सुभाष निषाद ने डीएम को बताया कि उसकी मजदूरी के 4 हजार 9 सौ रूपये ग्राम प्रधान के पति ने निकालकर उसमें से केवल चार सौ रूपये उसे प्राप्त कराए हैं.

मजदूर का दर्द सुनते ही डीएम ने संबंधित थाने के एसएचओ को तत्काल आरोपी को पकड़कर कर पेश करने का आदेश दिया. जिलाधिकारी का आदेश मिलते ही थानेदार ने प्रधानपति को हिरासत में लेकर डीएम के सामने पेश किया. डीएम द्वारा पूछताछ की गई तो प्रथम दृष्टया आरोप सही पाये गए. जिसके बाद तत्काल उसे गिरफ्तार करके जेल भेजने का आदेश डीएम ने दिया. जिलाधिकारी की कार्रवाई के चलते घपलेबाज प्रधानों में हड़कंप मच गया है. इस मामले पर बातचीत के दौरान डीएम ने मीडिया को बताया कि जनपद के सभी एसडीएम, बीडीओ समेत अन्य अधिकारियों को ऐसे ग्राम प्रधानों पर निगाह रखने का कड़ा आदेश दिया है जिससे मजदूरों का पैसा संकट के घड़ी में उन्हें मिल सके.

ये भी पढ़ें- COVID-19: Lockdown का उल्लंघन करने वालों की खैर नहीं, चप्पे-चप्पे की निगरानी के लिए लगाए गए ड्रोन

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज