लाइव टीवी

सर्जिकल स्ट्राइक से लिया उरी का बदला, लेकिन मदद के लिए अभी तक भटक रहे हैं शहीद के पिता

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 22, 2019, 10:11 AM IST
सर्जिकल स्ट्राइक से लिया उरी का बदला, लेकिन मदद के लिए अभी तक भटक रहे हैं शहीद के पिता
File Photo

उरी हमले में शहीद हुए जवान के पिता को शहादत के ढाई साल बीत जाने के बाद भी, सरकार की तरफ से मिलने वाली पांच लाख की सहायता राशि आज तक नही मिल सकी है.

  • Share this:
पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों के परिजनों की सरकार 25 लाख रुपए की मदद कर रही है. लेकिन कई बार सरकार की घोषणा के बाद शहीदों के परिजनों को यह राशि नहीं मिलती है. दरअसल हम बात कर रहे हैं उरी हमले में शहीद हुए जवान के पिता की. बेटे की शहादत के ढाई साल बीत जाने के बाद भी, सरकार की तरफ से मिलने वाली पांच लाख की सहायता राशि आज तक नही मिल सकी है. सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक से उरी का बदला ले लिया लेकिन शहीद के पिता को अभी तक मदद नहीं मिली.

शहीद के पिता नेताओं और मंत्रियों के पास चक्कर लगा लगा कर थक हार चुके हैं. मामला जौनपुर के सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के भकुरा गांव का है. जहां रहने वाले राजेन्द्र सिंह के सबसे छोटे बेटे राजेश सिंह 2010 में सेना में भर्ती हुए थे. उनकी पोस्टिंग जम्मू के उरी में थी.

18 सितम्बर 2016 रविवार की सुबह सेना के कैंप पर अचानक आतंकियों ने हमला कर दिया था. इस हमले में 19 जवान शहीद हुए थे. हमले में राजेश सिंह भी शहीद हो गए. सरकार ने मदद का आश्‍वासन देते हुए 25 लाख रुपए उनको परिजनों को देने की बात कही थी. जिसमे 20 लाख शहीद की पत्नी को तो दे दिए गए. लेकिन 5 लाख का जो चेक पिता को दिया जाता है, वो आज तक नहीं दिया गया.

उन्होंने इसकी शिकायत जिलाधिकारी से लेकर मंत्री रीता बहुगुणा जोशी और कई बड़े नेता से की, लेकिन आज तक उन्हें सिर्फ आश्वासन मिला है.

(रिपोर्ट-मनोज सिंह पटेल) 

ये भी पढ़ें: पुलवामा हमला: भारत ने उठाया सख्त कदम, पाकिस्तान जाने वाला पानी रोका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जौनपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2019, 11:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...