Home /News /uttar-pradesh /

Shahganj Assembly Seat: शाहगंज में 20 साल से है सपा की बादशाहत, कोई नहीं दे पा रहा टक्कर

Shahganj Assembly Seat: शाहगंज में 20 साल से है सपा की बादशाहत, कोई नहीं दे पा रहा टक्कर

UP Chunav 2022: शाहगंज में सपा की बादशाहत को इस बार कौन देगा टक्कर?

UP Chunav 2022: शाहगंज में सपा की बादशाहत को इस बार कौन देगा टक्कर?

Shahganj Assembly Seat Election: जौनपुर जिले की शाहगंज विधानसभा सीट पर 7 मार्च को वोट डाले जाएंगे. यादव मतदाताओं के वर्चस्‍व वाली इस सीट पर समाजवादी पार्टी 2002 से लगातार जीत रही है. कांग्रेस अखिरी बार 1980 और भाजपा 1996 में जीती थी. बसपा सिर्फ एक बार 1993 में जीत सकी थी.

अधिक पढ़ें ...

जौनपुर. शाहगंज विधानसभा सीट पर 20 साल से समाजवादी पार्टी (सपा) का कब्‍जा है. सबसे पहले 2002 में सपा से जगदीश सोनकर ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी. वह 2007 में भी जीते थे. 2008 के परिसीमन के बाद यह सीट सामान्‍य हो गई. इसके बाद जगदीश सोनकर यह सीट छोड़कर मछलीशहर सुरक्षित सीट पर चले गए. 2012 से शैलेंद्र यादव उर्फ ललई इस सीट से जीतकर विधानसभा पहुंच रहे हैं.

इस सीट पर 1957 में पहला चुनाव हुआ था. तब से लेकर 1974 तक लगातार यहां से कांग्रेस जीतती रही. आखिरी बार 1980 में पहलवान ने कांग्रेस को जीत दिलाई थी. 1991 और 96 में दो बार यह सीट भाजपा के पास रही. एक बार 1993 में यहां से बसपा भी जीत चुकी है. उस चुनाव में सपा-बसपा में गठबंधन था. 2017 में भाजपा ने यह सीट ओमप्रकाश राजभर की पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के हिस्‍से में दे दी थी. उसके प्रत्‍याशी राना अजीत प्रताप सिंह 58656 वोट लेकर दूसरे स्‍थान पर रहे थे. सपा के ललई यादव ने उन्‍हें 9162 वोट से हराया था. ललई को 67818 वोट मिला था. तीसरे नंबर पर बसपा के ओमप्रकाश सिंह थे, जिन्‍हें 51176 वोट मिले थे.

जातीय समीकरण
लगभग 3.60 लाख मतदाताओं वाली शाहगंज विधानसभा सीट पर सबसे अधिक यादव मतदाता हैं. जिनकी संख्‍या लगभग 61 हजार है. दलित 50 हजार, क्षत्रिय 40 हजार, बिंद 35 हजार, राजभर 33 हजार, मुस्‍लिम 30 हजार और ब्राह्मण वोटर करीब 28 हजार हैं.

Tags: UP Election 2022, UP Vidhan sabha chunav, Uttar Pradesh Assembly Elections

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर