Home /News /uttar-pradesh /

Zafrabad Assembly Seat: परिसीमन के बाद बसपा के हाथ से फिसला जफराबाद, क्‍या BJP दोहरा पाएगी जीत?

Zafrabad Assembly Seat: परिसीमन के बाद बसपा के हाथ से फिसला जफराबाद, क्‍या BJP दोहरा पाएगी जीत?

UP Chunav 2022: कभी बसपा का गढ़ हुआ करती थी जफराबाद सीट.

UP Chunav 2022: कभी बसपा का गढ़ हुआ करती थी जफराबाद सीट.

Zafrabad Assembly Seat Election: जौनपुर की जफराबाद विधानसभा सीट पर बसपा का दबदबा हुआ करता था. 1993 से लेकर 2012 तक इस सीट पर बसपा का कब्‍जा था. परिसीमन के बाद यह सीट बसपा नहीं जीत सकी है. 2012 में यहां सपा जीती थी. 2017 यह सीट भाजपा के खाते में चली गई.

अधिक पढ़ें ...

जौनपुर. जफराबाद विधानसभा क्षेत्र में 2017 के विधानसभा चुनाव में 25 साल बाद भाजपा जीती थी. 2008 के परिसीमन के पहले यह सीट बयालसी विधानसभा सीट के नाम से जानी जाती थी. 1991 में उमानाथ सिंह ने सबसे पहले यहां कमल खिलाया था. इसके बाद इस सीट पर पर बसपा का कब्‍जा हो गया था. 2012 में यह सीट सपा के शचींद्र नाथ त्रिपाठी ने बसपा से छीन ली थी.

जफराबाद विधानसभा सीट पर बसपा का दबदबा हुआ करता था. 1993 से लेकर 2012 तक इस सीट पर बसपा का कब्‍जा था. 1993 में बसपा से श्रीराम यादव जीते थे. इसके बाद 1996, 2002 व 2007 में जगदीश नारायण ने बसपा से जीत दर्ज की थी. परिसीमन के बाद बयालसी विधानसभा सीट का नाम बदलकर जफराबाद कर दिया गया. इसके बाद हुए 2012 के चुनाव में यह सीट बसपा के हाथ से निकल गई.

2017 का परिणाम
भाजपा
उम्मीदवार डॉ. हरेंद्र प्रसाद सिंह ने सपा प्रत्याशी व सिटिंग विधायक शचींद्र नाथ त्रिपाठी को 24865 मतों से परास्त किया था. हरेंद्र को 85989 मत और शचींद्र नाथ को 61124 मत मिले थे. 45490 वोट लेकर बसपा के संजीव उपाध्याय तीसरे नंबर पर थे.

जातीय समीकरण
लगभग 3.75 लाख मतदाताओं वाली जफराबाद विधानसभा सीट पर सबसे अधिक 68 हजार वोटर अनुसूचित जाति से हैं. ब्राह्मण 45 हजार, यादव 42 हजार, क्षत्रिय 37 हजार, पटेल 34 हजार, मुस्‍लिम करीब 26 हजार, बिंद 25 हजार और राजभर वोटर करीब 21 हजार है.

Tags: UP Election 2022, UP Vidhan sabha chunav

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर