Noida News: जेवर एयरपोर्ट के लिए जून के आखिर तक खाली हो जाएंगे 7 गांव, ग्रामीण टाउनशिप में होंगे शिफ्ट

जून के आखिर तक खाली हो जाएंगे बाकी बचे 7 गांव. अगस्त में होगा एयरपोर्ट का भूमि पूजन. Demo Pic.

एसबीआई (SBI) ने एयरपोर्ट के लिए 3725 करोड़ रुपये का लोन दिया है. नोएडा फिल्म सिटी (Noida Film City) का पहला फेज भी एयरपोर्ट की पहली उड़ान के साथ ही बनकर तैयार हो जाएगा.

  • Share this:
    नोएडा. जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) के लिए जमीन का रास्ता साफ हो चुका है. जून के आखिर तक 7 और गांव खाली हो जाएंगे. सभी गांव वालों को टाउनशिप में शिफ्ट किया जा रहा है. अगस्त में एयरपोर्ट का भूमि पूजन है. इस मौके पर पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi चीफ गेस्ट तो यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) होस्ट के रूप में मौजूद रहेंगे. साल 2024 में एयरपोर्ट से पहली उड़ान शुरू हो जाएगी. मेंटेनेंस वर्कशॉप के चलते एयरपोर्ट पर रनवे की संख्या बढ़ा दी गई है. हाल ही में एसबीआई (SBI) ने एयरपोर्ट के लिए 3725 करोड़ रुपये का लोन दिया है. नोएडा फिल्म सिटी (Noida Film City) का पहला फेज भी एयरपोर्ट की पहली उड़ान के साथ ही बनकर तैयार हो जाएगा.

    जानकारों की मानें तो हाल ही में एयरपोर्ट की विकासकर्ता कंपनी यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने 7 और गांवों की जमीन का अधिग्रहण किया है. इस महीने की 30 तारीख तक गांवों को पूरी तरह से खाली करा लिया जाएगा. 7 गांव दयानतपुर खेड़ा, रोही, नगला शरीफ, नगला फूल खां, किशोरपुर, नगला छीतर और नगला गणेशी के ग्रामीणों के लिए टाउनशिप तैयार कर दी गई है.

    सभी को नियमानुसार प्लॉट दे दिए गए हैं. करीब 48 हेक्टेयर में यह टाउनशिप तैयार की गई है. वहीं, 7 गांवों की 1350 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया गया है.

    अब दिसम्बर 2021 में बनकर तैयार होगा नोएडा-फरीदाबाद को जोड़ने वाला पुल, जानिए वजह

    जेवर एयरपोर्ट पर बनेगा मेंटेनेंस रिपेयरिंग एंड ओवरहॉलिंग हब
    जेवर में बनने वाला एयरपोर्ट देश का सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा, लेकिन इसके साथ ही यहां देश का सबसे बड़ा हवाई जहाजों की मरम्मत करने का वर्कशॉप एमआरओ (मेंटिनेंस रिपेयरिंग एंड ओवरहॉलिंग) हब भी बन रहा है. इसी के चलते जेवर एयरपोर्ट पर 2 नहीं 5 रनवे बनाए जाने का प्रस्ताव पास हुआ है.



    गौरतलब है कि अभी तक हवाई जहाजों के इंजन की मरम्मत का काम ज़्यादातर खासतौर से सिंगापुर, श्रीलंका और दूसरे यूरोपीय देशों में कराया जाता है. लेकिन, अब सरकार के इस कदम से एयर एवियशन कंपनियों को बड़ी राहत मिलेगी और आर्थिक बचत भी होगी. साल 2024 तक जेवर एयरपोर्ट के पहले चरण के रनवे अपना काम शुरू कर देंगे. जेवर एयरपोर्ट से पहला विमान 2024 में उड़ान भरेगा. ज्यूरिख कंपनी एयरपोर्ट का निर्माण करेगी.
    Published by:Nasir Hussain
    First published: