UP-MP बॉर्डर पर 20KM लंबा जाम, वाहनों को प्रवेश की अनुमति नहीं देने पर श्रमिकों का हंगामा
Jhansi News in Hindi

UP-MP बॉर्डर पर 20KM लंबा जाम, वाहनों को प्रवेश की अनुमति नहीं देने पर श्रमिकों का हंगामा
झांसी में यूपी की सीमा में श्रमिकों ने किया जमकर हंगामा.

उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर यूपी पुलिस (UP Police) ने रक्सा के पास से से झांसी ( Jhansi) में वाहनों को प्रवेश नहीं करने दिया. पुलिस ने सील बॉर्डर से एक भी प्राईवेट वाहनों को झांसी में प्रवेश नहीं करने दिया.

  • Share this:
झांसी. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बॉर्डर पर यूपी पुलिस (UP Police) ने रक्सा बॉर्डर (Raksa Border) से झांसी ( Jhansi) में वाहनों को प्रवेश नहीं करने दिया. पुलिस ने सील बॉर्डर से एक भी प्राईवेट वाहनों को झांसी में प्रवेश नहीं करने दिया. निजी वाहनों को यूपी में प्रवेश नहीं करने देने पर मजदूरों ने जमकर हंगामा किया. आईजी, कमिश्नर, डीएम और एसएसपी रक्सा बॉर्डर पर पहुंच गए हैं.

...तो थानेदार होंगे जिम्मेदार
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि एक भी श्रमिक पैदल या किसी वाहन में छुपकर या निजी वाहन से यूपी में प्रवेश करेगा तो बॉर्डर के थाने के थानेदार इसके लिए जिम्मेदार होंगे. सीएम के आदेश का पालन कराने के लिए पुलिस ने रक्सा बॉर्डर पर बैरिकेडिंग कर रखी है.

रक्सा बॉर्डर लगा 20 किलोमीटर लंबा जाम
इससे हजारों की तादाद में प्रवासी मजदूरों के वाहनों के पहिए रक्सा बॉर्डर पर रुक गए. प्रवासी मजदूर अपने प्राइवेट वाहनों से नहीं उतरने की जिद पर अड़ गए हैं. इसके कारण झांसी के रक्सा बॉर्डर 20 किलोमीटर लम्बा जाम लग गया है. शनिवार रात से भूखे-प्यासे प्रवासी मजदूरों ने हंगामा करना शुरू कर दिया है. प्रवासी मजदूरों के बढ़ते हंगामे को देख बॉर्डर पर कई कम्पनी पीएसी बुला ली गई है. प्रवासी मजदूर रोडवेज़ की बसों में बैठने को तैयार नहीं हो रहे हैं.





औरैया हादसे में अब तक निलंबित किए जा चुके हैं 3 थानेदार
औरैया हादसे के कारण अब तक 3 थानेदार निलंबित किए जा चुके हैं क्योंकि इनके क्षेत्रों से होकर वाहन गुजरे थे. औरैया में सड़क हादसे के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त निर्देश दिया है. सीएम ने ट्वीट कर कहा है कि ट्रकों और गैर यात्री वाहनों से श्रमिकों को ढोने वाले वाहन स्वामियों और चालकों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया जाए. साथ ही ऐसे वाहनों को तत्काल सीज किया जाए. श्रमिकों और कामगारों को भोजन-पानी देकर बसों से उनके गृह नगर भेजने की व्यस्वस्था की जाए.

ये भी पढ़ें - 

UP में 88 कंपनियों को भूमि आवंटित, 700 करोड़ के निवेश से 9000 को मिलेगा रोजगार

औरैया हादसे पर प्रियंका गांधी बोलीं, क्या सरकार का काम बयानबाजी करना रह गया है
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज