लाइव टीवी

बूंद-बूंद को तरस रहा बुंदेलखंड, सरकार नहीं कर पा रही पानी का इतंजाम

News18Hindi
Updated: March 22, 2018, 6:50 PM IST

प्रचंड गर्मी में पानी के श्रोत सूख जाते हैं. कुंए नल और हैंडपंप गर्मी के आगे आत्म समर्पण कर देते हैं. पीने के पानी तक के लाले पड़ जाते हैं. एक बाल्टी पानी के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2018, 6:50 PM IST
  • Share this:
यूपी के बुंदेलखंड में गर्मी आने के साथ ही शुरू हो जाती है पानी के लिए जद्दोजहद. यहां पर पानी को लेकर हाहाकार मच जाता है. ऐसे में प्रशासन के लिए झांसी जनपद में पानी की व्यवस्था करना सबसे बड़ी चुनौती बन जाता है. पानी की कमी का आलम ये है कि यहां गांव के इलाकों में पानी की व्यवस्था के लिए ग्रामीणों को कई-कई किलोमीटर पैदल का सफर तय करना पड़ता है.

प्रचंड गर्मी में पानी के श्रोत सूख जाते हैं. कुंए नल और हैंडपंप गर्मी के आगे आत्म समर्पण कर देते हैं. पीने के पानी तक के लाले पड़ जाते हैं. एक बाल्टी पानी के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है. ऐसे में झांसी में पानी की विकराल समस्या लोगों के लिए पूरी गर्मी भर परेशानी का सबसे बड़ा सबब बना रहती है.

पेयजल संकट का सबसे ज्यादा असर बेजुबानों पर पड़ रहा है. पानी की प्यास बुझाने के लिए ग्रामीण और मवेशी कड़ी मश्क्कत करते हैं. और इसकी शुरुआत हो चुकी है. हालांकि अभी तक गर्मी ठीक से शुरू भी नहीं हुई पर पानी की समस्या ने अपना विकराल रूप दिखाना शुरू कर दिया है. वैसे आपको बता दें कि प्रदेश की योगी सरकार ने सत्त में आने से पहले बुंदेलखंड में पानी देने को लेकर कई वादे किए थे जिनकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है.

(अश्विनी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें

...तो महायज्ञ की आहुति से मेरठ हो रहा है प्रदूषण मुक्त? देखिए आंकड़े

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झांसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 22, 2018, 6:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर