लाइव टीवी

लखनऊ शूटआउट: उमा भारती बोलीं- राजनीति छोड़ पीड़ित परिवार के साथ दिखाएं सहानुभूति

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 30, 2018, 12:42 PM IST
लखनऊ शूटआउट: उमा भारती बोलीं- राजनीति छोड़ पीड़ित परिवार के साथ दिखाएं सहानुभूति
केंद्रीय मंत्री उमा भारती

सरकार की तरफ से एसआईटी के गठन और ज्यूडिशियल इंक्वायरी के जरिए ​निष्पक्ष जांच के आदेश दे दिए गए है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यूपी सरकार ने मृतक विवेक की पत्नी को मुआवजे और सरकारी नौकरी देने की भी घोषणा की है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती नगर इलाके में कथित रूप से पुलिस की फायरिंग में मारे गए एप्पल के एक सेल्‍‍‍स मैनेजर विवेक तिवारी की मौत के मामले में केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने ललितपुर में कहा कि इस घटना को सुनकर काफी दुखी हुई. उन्होंने कहा," राजनीतिक पार्टी को मौत पर राजनीति नहीं करनी चाहिए, बल्कि पीड़ित परिवार के साथ सहानुभूति दिखाना चाहिए. इस मामले में योगी सरकार ने दोनों सिपाहियों को बर्खास्त करते हुए जेल भेजा है.

सरकार की तरफ से एसआईटी के गठन और ज्यूडिशियल इंक्वायरी के जरिए ​निष्पक्ष जांच के आदेश दे दिए गए है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यूपी सरकार ने मृतक विवेक की पत्नी को मुआवजे और सरकारी नौकरी देने की भी घोषणा की है.

एप्पल के सेल्‍‍‍स मैनेजर विवेक तिवारी का अंतिम संस्कार रविवार को किया गया. इस दौरान योगी में कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और आशुतोष टंडन ने मृतक विवेक तिवारी के परिजनों से भैंसाकुंड पहुंचकर मुलाकात की. इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में इस घटना के बारे में संवाददाताओं से कहा कि लखनऊ की घटना कोई मुठभेड़ की वारदात नहीं है. हम इसकी पूरी जांच कराएंगे. पहली नजर में दोषी दिख रहे पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. जरूरत पड़ेगी तो हम सीबीआई को भी इसकी जांच सौंपेंगे.

क्या है पूरा मामला

शुक्रवार/शनिवार देर शाम एप्पल कंपनी का बड़ा इवेंट था. कंपनी के दो फोन भारत में लॉन्च किए गए थे. ये फोन शाम छह बजे से बाजार में बेचे जाने शुरु हुए थे. विवेक तिवारी एपल कंपनी के एरिया मैनेजर थे. उनके लिए ये बहुत बड़ा मौका था. वे रात में देर से ऑफिस से निकले थे. उनके साथ उनकी सहकर्मी सना भी थीं. वे सना को उसके घर छोड़ने के बाद अपने घर जाने वाले थे. रास्ते में गोमती नगर इलाके में पुलिस की एक बाइक ने उन्हें रुकने को कहा. गोली मारने वाले कांस्टेबल प्रशांत का कहना है कि विवेक भाग रहे थे और जान से मारने की नीयत से बाइक पर अपनी गाड़ी चढा दी. जिसके बाद प्रशांत ने विवेक को गोली मार दी. घायल विवेक को लोहिया अस्पताल लाया गया जहां उसकी मौत हो चुकी थी.

ये भी पढ़ें:

Opinion: लखनऊ शूटआउट से नहीं लिया सबक तो बीजेपी को अदा करनी होगी बड़ी कीमत
Loading...

लखनऊ शूटआउट: विवेक तिवारी का हुआ अंतिम संस्कार, बड़े भाई ने दी मुखाग्नि

लखनऊ शूटआउट: अंतिम संस्कार से पहले बोली बेटी-"पापा उठो, मैं अच्छे नंबर लाऊंगी"

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झांसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 30, 2018, 12:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...