Home /News /uttar-pradesh /

farmers troubled terror anna animals arrangement gaushalas bundelkhand

बुंदेलखंड में अन्ना पशुओं का आतंक, किसानों के सिर मंडराई आफत

अन्ना (आवारा) पशु उप्र के बुंदेलखंड इलाके में बड़ी समस्या बने हुए हैं. पिछले साल यूपी चुनाव के पहले यह माना जा रहा था कि अन्ना पशुओं की समस्या चुनावी मुद्दा बनेगी लेकिन ऐसा नहीं हो सका और ये पशु लगातार किसानों और आम लोगों की परेशानी बने हुए है. खरीफ की फसलों की बोवनी के साथ ही इन पशुओं का आतंक शुरू हो गया है.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट : शाश्वत सिंह

    झांसी. बुंदेलखंड में अन्ना पशु हमेशा से एक बड़ी समस्या रहे हैं. बु  दरअसल भौगोलिक दृष्टि से बुंदेलखंड इलाका उप्र और मप्र में बंटा हुआ है. उप्र के बुंदेलखंड क्षेत्र में महोबा, हमीरपुर, जालौन, बांदा और चित्रकूट कुल सात जिले आते हैं. इन जिलों में  हर साल किसान अन्ना जानवरों के आतंक से दहशत में रहते हैं. इस बार भी अभी फसल लगनी शुरु ही हुई है कि अन्ना पशुओं ने खेतों पर हमला बोल दिया.  ये जानवर खड़ी फसलों को बर्बाद कर रहे हैं. योगी सरकार ने गांवों में गोशाला तो बनवा दीं लेकिन अन्ना जानवरों को इन गोशालाओं तक नहीं पहुंचाया गया.

    झांसी के मऊरानीपुर तहसील के एक किसान ने बताया कि  प्रदेश सरकार ने गोशाला तो बनवा दी है लेकिन स्थानीय प्रशासन के लोग अन्ना जानवरों को गोशाला में पहुंचाने का इंतजाम नहीं कर पा रहे हैं. किसान ने बताया कि दिन रात उन्हें अपने खेत में रहना पड़ता है जिससे अन्ना जानवर फसल को बर्बाद ना कर दें. इतनी कोशिशों के बावजूद भी किसान अपनी फसल को अन्ना जानवरों से नहीं बचा पा रहे हैं. बड़ी संख्या में अन्ना जानवर खेतों में घुस जाते हैं.

    गोशालाओं में सुविधाओं की भी कमी
    किसान नेता शिव नारायण सिंह ने कहा कि मऊरानीपुर तहसील से लेकर झांसी के हर गांव का किसान अन्ना पशुओं की समस्या से परेशान हैं. कुछ जगहों पर गोशाला बनवाई ही नहीं गई हैं और जहां बनवाई गईं हैं वहां भी उचित इंतजाम नहीं हैं. स्थानीय प्रशासन भी अन्ना जानवरों को गोशाला तक पहुंचाने में रुचि नहीं दिखा रहा है. इस बीच किसानों को अपनी फसलों की परवाह खुद करनी पड़ रही है. किसानों के साथ ही ये अन्ना पशु आम लोगों के लिए भी मुसीबत बन जाते हैं. अन्ना पशुओं पर ध्यान दिए जाने से अंचल की बड़ी समस्या का समाधान हो सकेगा.

     

    Tags: Uttar pradesh news

    अगली ख़बर