Indian Railways: कोरोना महामारी संकट में कैसे संकटमोचन साबित हो रहा भारतीय रेलवे?

भारतीय रेल द्वारा ऑक्‍सीजन की त्वरित उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में भी उत्तर मध्य रेलवे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं

भारतीय रेल द्वारा ऑक्‍सीजन की त्वरित उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में भी उत्तर मध्य रेलवे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं

Indian Railway News: भारतीय रेल द्वारा ऑक्‍सीजन की त्वरित उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में भी उत्तर मध्य रेलवे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं. अब तक कुल 106 वैगनों से लैस 04 BWT (फ्लैट वैगन) के रेक झांसी में तैयार करके देश के विभिन्न गंतव्यों को भेजे गए हैं.

  • Share this:
उत्‍तर प्रदेश के झांसी में उत्तर मध्य रेलवे कोविड -19 से अपने कार्यबल की रक्षा करते हुए सुरक्षित और कुशल ट्रेन संचालन को निर्बाध रूप से बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक उपाय कर रहा है. इस सतत निगरानी प्रणाली के अंतर्गत महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने अपर महाप्रबंधक रंजन यादव, सभी प्रमुख मुख्य विभागाध्यक्षों, मण्डल रेल प्रबंधक प्रयागराज, झांसी और आगरा के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उत्तर मध्य रेलवे पर कोविड-19 स्थिति की समीक्षा की.

महाप्रबंधक त्रिपाठी ने कहा की यह अति आवश्यक है कि इस महामारी में हमें हर एक जरूरतमंद रेलकर्मी और उसके परिवार की मदद करनी है. मीटिंग के दौरान ट्रेन संचालन पर भी चर्चा की गई. महाप्रबंधक ने जोर देते हुए कहा की इस कठिन घड़ी में सबको मिलकर सुरक्षित और कुशल रेल परिचालन सुनिश्चित करना है. भारतीय रेल द्वारा ऑक्‍सीजन की त्वरित उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में भी उत्तर मध्य रेलवे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं. अब तक कुल 106 वैगनों से लैस 04 BWT (फ्लैट वैगन) के रेक झांसी में तैयार करके देश के विभिन्न गंतव्यों को भेजे गए हैं, जिससे इन रेकों के माध्यम से खाली और भरे हुए ऑक्‍सीजन टैंकरों का त्वरित परिवहन हो रहा है.

Youtube Video


इस क्रम में 10 वैगन का एक रेक लखनऊ, 32 वैगन का एक रेक टाटानगर, 32 वैगन का एक रेक पानागढ़ और 32 वैगन का एक रेक भोपाल भेजा गया है. इसके अतिरिक्त ऑक्‍सीजन एक्स्प्रेस ट्रेन को बिना किसी रुकावट के ग्रीन कॉर‍िडोर के तर्ज पर चलाया जा रहा है और तीनों मंडलों एवं मुख्यालय स्तर पर इसके लिए आवश्यक सभी जरूरी कदम उठाए गए हैं. इस दौरान सभी पात्र कर्मियों के टीकाकरण को पूरा करने और अगले चरण में 45 वर्ष से कम आयु के पात्र कर्मियों और उनके परिवारजन के टीकाकरण पर चर्चा की गई.
उत्तर मध्य रेलवे अगले चरण के लिए और अधिक टीका केंद्र संचालित करने हेतु प्रयासरत है, जिससे इस अभियान को जल्द से जल्द पूरा किया जा सके. गौरतलब है कि इन दिनों पूरे देश मे कोरोना महामारी ने ऑक्‍सीजन का गम्भीर संकट पैदा कर दिया है. ऐसे में उत्तर मध्य रेलवे ऑक्‍सीजन कैरिंग प्लेटफार्म को मजबूत करने वाले संसाधनों को तेजी से बढ़ाने पर दिन रात काम कर रहा है. 4 BWT फ़्लैट वैगन बनाकर पूरे देश मे भेजने का काम जोरों पर किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज