होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

बड़ी लापरवाही! शहीद स्तंभ पर लिख दिए जीवित सेनानियों के नाम और मिट रहे क्रांतिकारियों के निशान 

बड़ी लापरवाही! शहीद स्तंभ पर लिख दिए जीवित सेनानियों के नाम और मिट रहे क्रांतिकारियों के निशान 

Jhansi: झांसी के रानी लक्ष्मीबाई पार्क में नगर निगम द्वारा बनाया गया शहीद स्तंभ बदहाली का दंश झेल रहा है.झांसी के रहने वाले स्वतंत्रता सेनानियों की याद में बना यह स्तंभ आज बदरंग हो चुका है. इस पर लिखे हुए स्वतंत्रता सेनानियों के नाम मिट चुके हैं. स्तंभ का स्वरूप भी खराब हो गया है.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट: शाश्वत सिंह

झांसी: देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. नागरिक से लेकर सरकार तक हर कोई स्वतंत्र सेनानियों को याद कर रहा है.उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त कर रहा है.तमाम स्मारकों का सौंदर्यीकरण भी किया जा रहा है लेकिन झांसी के रानी लक्ष्मीबाई पार्क में नगर निगम द्वारा बनाया गया शहीद स्तंभ बदहाली का दंश झेल रहा है.झांसी के रहने वाले स्वतंत्रता सेनानियों की याद में बना यह स्तंभ आज बदरंग हो चुका है. इस पर लिखे हुए स्वतंत्रता सेनानियों के नाम मिट चुके हैं. स्तंभ का स्वरूप भी खराब हो गया है.

इस स्तंभ का नाम शहीद स्तंभ रखा गया है.स्तंभ के सबसे ऊपर के हिस्से में लाल रंग से \”शहीद स्तंभ\” लिखा हुआ है.उसके नीचे छोटे अक्षरों में सहभागिता शब्द भी लिखा गया है.लेकिन, जिम्मेदारों ने शहीद स्तंभ में कुछ जिंदा स्वतंत्रता सेनानियों के नाम भी लिख दिए हैं. इस स्तंभ पर सत्यदेव तिवारी का नाम भी लिखा हुआ है.सत्यदेव तिवारी ने स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लिया था लेकिन वह शहीद नहीं हुए. वह आज़ादी के बाद बदलते और बढ़ते हुए भारत के गवाह रहे हैं.लेकिन नगर निगम ने उनका नाम भी शहीद स्तंभ की सूची में लिख दिया है.

गलती को सुधारा जाएगा
शहीद स्तंभ की बदहाली और सत्यदेव तिवारी के नाम लिखे जाने पर झांसी नगर निगम के महापौर रामतीर्थ सिंघल से बात की तो उन्होंने कहा कि शहीद स्तंभ को जल्द ही ठीक करवा दिया जाएगा. उसे एक नया स्वरूप भी दिया जाएगा. सत्यदेव तिवारी पर उन्होंने कहा कि यह एक चूक है.हम या तो स्तंभ का नाम बदलेंगे या सत्यदेव तिवारी के सम्मान में एक अलग पट्टिका बनाई जाएगी.उन्होंने कहा कि सेनानियों के सम्मान में कोई कमी नहीं आयेगी.

Tags: Jhansi news, Jhansi Police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर