सर्राफा डकैती कांड में चार गिरफ्तार, 1.5 करोड़ का माल बदामद

उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद के कोतवाली थाना क्षेत्र में बीती 19 दिसंबर को सर्राफा व्यवसायी के घर पड़ी करोड़ों की डकैती कांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने मुठभेड़ में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

आईएएनएस
Updated: January 14, 2018, 9:34 PM IST
सर्राफा डकैती कांड में चार गिरफ्तार, 1.5 करोड़ का माल बदामद
File Photo
आईएएनएस
Updated: January 14, 2018, 9:34 PM IST
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद के कोतवाली थाना क्षेत्र में बीती 19 दिसंबर को सर्राफा व्यवसायी के घर पड़ी करोड़ों की डकैती कांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने मुठभेड़ में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. बदमाशों के पास से लूटा गया करीब 1 करोड़ 50 लाख रुपये का माल, 5 किलो 400 ग्राम सोना और चांदी 230 ग्राम बरामद कर ली गई है.

इस डकैती कांड में पुलिस तीन बदमाशों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी थी. वहीं इस कांड में शामिल अपने सरगना की बदमाशों ने मिलकर हत्या कर दी. पुलिस की इस सफलता पर अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन ने पुलिस टीम को एक लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की है.

कोतवाली थाना क्षेत्र के मोहल्ला चौधरयाना निवासी सर्राफा व्यापारी पवन कुमार अग्रवाल के घर बीती 19 दिसंबर को काम से निकाले गए नौकर कृष्णा के साथ मिलकर बदमाशों ने करोड़ों की डकैती डाली थी. इस मामले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने तीन लुटेरों विक्की राय, राम कृपाल और शिवम सूजे को गिरफ्तार कर लिया था. जिनके पास से 4 लाख 50 हजार के जेवर और 71,000 रुपये की नगदी बरामद हुई थी.

जांच के दौरान नौकर कृष्णा, संदीप कुशवाहा, आशीष साहू के नाम सामने आए थे. इस पर पुलिस ने अपनी जांच और तेज कर दी और शनिवार शाम मुखबिर की सूचना पर थाना कोतवाली, थाना प्रेमनगर व क्राइम ब्रांच की संयुक्त पुलिस टीम ने अंजनी माता मंदिर के पास से चारों लुटेरों संदीप कुशवाहा, आशीष साहू, शिवम साहू और अनुज राय को गिरफ्तार कर लिया.

एसएसपी जेके शुक्ला ने बताया कि पुलिस ने जब मौके पर छापा मारा तो वहां बदमाश लूट के माल का बंटवारा कर रहे थे. उन्होंने बताया कि पकड़े गए बदमाशों के पास से 5 किलो 400 ग्राम सोने और 230 ग्राम चांदी के जेवर बरामद हुए हैं, जिनकी कीमत डेढ़ करोड़ से अधिक बताई गई है.

एसएसपी ने बताया कि पूछताछ में आरोपी संदीप कुशवाहा ने स्वीकार किया है कि घटना के बाद वह और कृष्णा साथ-साथ भागे थे और इंदौर, दिल्ली आदि जगहों पर कई दिन छिपकर रहे. लूटे हुए माल को हड़पने और घटना में अपना नाम सामने न आए, इस वजह से उसने अपने एक साथी विक्की लखेरा के साथ मिलकर मेरठ के पास कृष्णा की हत्या कर दी. एसएसपी ने बताया कि एक टीम कृष्णा के परिजनों के साथ घटना स्थल पर शव बरामद करने के लिए भेज दी गई है.

इस डकैती और हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को एडीजी कानपुर जोन अविनाश चंद्रा ने एक लाख रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर