Home /News /uttar-pradesh /

झांसी लोकसभा सीट: उमा भारती का टिकट काट BJP ने इन्हें बनाया है प्रत्याशी, ‘विकास’ पर भारी पड़ेगा जातीय समीकरण

झांसी लोकसभा सीट: उमा भारती का टिकट काट BJP ने इन्हें बनाया है प्रत्याशी, ‘विकास’ पर भारी पड़ेगा जातीय समीकरण

पिछली बार बड़े अंतर से बीजेपी को जीत मिली थी. यहां से उमा भारती जीती थीं. लेकिन पहुंज और बेतवा नदी से घिरे झांसी-ललितपुर में इस बार दलों के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है.

पिछली बार बड़े अंतर से बीजेपी को जीत मिली थी. यहां से उमा भारती जीती थीं. लेकिन पहुंज और बेतवा नदी से घिरे झांसी-ललितपुर में इस बार दलों के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है.

पिछली बार बड़े अंतर से बीजेपी को जीत मिली थी. यहां से उमा भारती जीती थीं. लेकिन पहुंज और बेतवा नदी से घिरे झांसी-ललितपुर में इस बार दलों के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है.

    झांसी का नाम लेते ही सबसे पहले ‘खूब लड़ी मर्दानी’ याद आता है. झांसी को रानी लक्ष्मीबाई की वीरता के लिए याद किया जाता है. इस शहर को इतिहास के लिए याद किया जाता है. चाहे वह 18-20 किलोमीटर दूर ओरछा हो, 28-30 किलोमीटर दूर दतिया या करीब 180 किलोमीटर दूर खजुराहो. झांसी मेजर ध्यानचंद का शहर है. बुंदेलखंड इलाके में झांसी आता है. इतिहास से अलग देखें, तो वो सारी समस्याएं झांसी में हैं, जिनके लिए बुंदेलखंड को जाना जाता है. पानी बड़ी समस्या है. आवारा जानवरों से निपटना पिछले कुछ समय बहुत बड़ी समस्या के तौर पर सामने आया है. खासतौर पर किसानों के लिए, जो इन जानवरों से फसल बचाने के लिए जूझते नजर आए.

    पिछली बार बड़े अंतर से बीजेपी को जीत मिली थी. यहां से उमा भारती जीती थीं. लेकिन पहुंज और बेतवा नदी से घिरे झांसी-ललितपुर में इस बार दलों के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है.

    झांसी लोकसभा क्षेत्रः पिछले चुनाव में कैसा था मिजाज
    2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की साध्वी उमा भारती 5,75,889 वोट लेकर निर्वाचित हुईं थीं. दूसरे स्थान पर 3,85,422 वोटों के साथ समाजवादी पार्टी के डॉ. चंद्रपाल सिंह यादव रहे थे. तीसरा स्थान बीएसपी की अनुराधा शर्मा को और चौथा स्थान कांग्रेस के प्रदीप जैन आदित्‍य को मिला था.

    झांसी में जनसंपर्क करते बीजेपी उम्मीदवार अनुराग शर्मा


    झांसी लोकसभा क्षेत्र में विधानसभा की कुल पांच सीटें हैं- बबीना, झांसी नगर, मऊरानीपुर, ललितपुर और महरौनी. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में इन सभी सीटों से बीजेपी जीती थी. पिछले तीन लोक सभा चुनाव में कोई एक पार्टी नहीं जीती है. पिछली बार बीजेपी, 2009 में कांग्रेस के प्रदीप जैन और 2004 में समाजवादी पार्टी के चंद्रपाल सिंह यादव जीते थे.

    यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी के बनारस की पड़ोसी सीट पर BJP क्यों नहीं लड़ रही है चुनाव, 2014 में 10 साल बाद खिला था कमल

    झांसी लोकसभा चुनाव 2019 में कौन हैं प्रत्याशी
    इस बार भाजपा से उमा भारती की जगह नए प्रत्याशी बैद्यनाथ आयुर्वेद कंपनी के चेयरमैन अनुराग शर्मा मैदान में हैं. पूर्व सांसद स्व. पंडित विश्वनाथ शर्मा के पुत्र अनुराग के लिए माना जा रहा है कि वो संघ की पसंद हैं. अनुराग शर्मा की रिश्तेदार अनुराधा शर्मा 2014 में बीएसपी की प्रत्याशी थीं. वो अनुराग शर्मा के नामांकन में पहुंची थीं. उन्होंने कहा था कि बीजेपी प्रत्याशी मेरे भतीजे हैं, इसलिए आशीर्वाद देने आई हूं. बीजेपी प्रत्याशी नए हैं. लेकिन बाकी भी नए ही हैं.

    झांसी जनसंपर्क को उतरे सपा-बसपा गठबंध के उम्मीदवार श्याम सुंदर सिंह यादव


    एसपी-बीएसपी की तरफ से श्याम सुंदर सिंह यादव खड़े हुए हैं, जो चुनाव से पहले बीजेपी छोड़कर समाजवादी पार्टी में आए थे. उन्हें टिकट मिलने से मुलायम सिंह यादव के करीबी नेता चंद्रपाल सिंह खासे नाराज थे. 2004 मे जीत चुके चंद्रपाल सिंह यादव को राज्यसभा सीट दे दी गई थी. उन्हें मनाया गया. उनके मानने या न मानने का असर चुनाव के नतीजों पर दिख सकता है. कांग्रेस ने सीट जन अधिकार पार्टी के लिए छोड़ी है. कांग्रेस के चुनाव चिह्न से ही उनके प्रत्याशी शिवशरण कुशवाहा लड़ रहे हैं. शिवशरण बसपा सरकार में मंत्री रहे और एनआरएचएम (नेशनल रूरल हेल्थ मिशन) घोटाले के आरोपी बाबूसिंह कुशवाहा के भाई हैं.

    झांसी लोकसभा चुनाव 2019 का सामाजिक समीकरण
    यूपी के चर्चित शहरों में से एक झांसी की 91 प्रतिशत आबादी हिंदू और सात प्रतिशत जनसंख्या मुस्लिम है. पिछले लोकसभा चुनाव में 19,32,052 वोटरों ने हिस्सा लिया था, जिसमें 53 प्रतिशत पुरुष और 46 प्रतिशत महिलाएं शामिल थीं. यहां जातियां अहम रोल अदा कर सकती है. महागठबंधन की नजर यादव, मुस्लिम, अहिरवार पर है, तो बीजेपी ब्राह्मण, ठाकुर, वैश्य, राजपूत लोध और कुशवाहा वोट पर नजर गड़ाए है. कांग्रेस ने भी कुशवाहा को उतारकर लोध और कुशवाहा वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश की है.

    प्रियंका गांधी संग झांसी में रोड शो करते कांग्रेस के चुनाव निशान पर चुनाव लड़ने वाले जनअधिकार पार्टी के ‌शिवशरण कुशवाहा


    यह भी पढ़ेंः आजमगढ़ लोकसभा सीट: अखिलेश के सामने कितनी मजबूत है दिनेश लाल यादव की दावेदारी

    गोरखपुर लोकसभा सीट: यहां रवि किशन नहीं सीएम योगी की प्रतिष्ठा दांव पर है

    अमेठी लोकसभा सीट: जब राजीव गांधी के सामने मेनका गांधी की हुई थी जमानत जब्त

    आपके शहर से (झांसी)

    झांसी
    झांसी

    Tags: BJP, BSP, Samajwadi party, Uma bharti, Uttar Pradesh Lok Sabha Constituencies Profile

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर