मंदिर की जमीन वापसी के लिए धरने पर बैठे 'भगवान'

ग्रामीणों का आरोप है कि सुधा रानी नाम की महिला ने पुजारी से जबरदस्ती मंदिर में लगी कृषि भूमि की रजिस्ट्री करा ली और पुजारी को भगा

आईएएनएस
Updated: March 14, 2018, 10:15 PM IST
मंदिर की जमीन वापसी के लिए धरने पर बैठे 'भगवान'
Demo Pic
आईएएनएस
Updated: March 14, 2018, 10:15 PM IST
उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार भले ही भू-माफियाओं के खिलाफ अभियान छेड़ने का दावा कर रही हो, लेकिन हकीकत कुछ और है. झांसी में अपने मंदिर को बचाने के लिए भगवान को ग्रामीणों के साथ धरना एसडीएम ऑफिस के सामने धरने पर बैठ गए. मामला जिले की मऊरानीपुर तहसील में एक गांव में बने मंदिर का है. जहां के भगवान को अपने भक्तों के साथ ही मंदिर को बचाने के लिए एसडीएम कार्यालय के सामने धरना देना पड़ा.

झांसी जिले के मऊरानीपुर तहसील क्षेत्र के रोरा गांव में एक पुराना मंदिर है, जहां भगवान ठाकुर जी विराजमान हैं. छह माह पहले यहां के पुजारी ने गांव की सुधा रानी नामक महिला को मंदिर की जमीन बेच दी और गायब हो गया. जिसके बाद अब न तो मंदिर में कोई पुजारी है और ही रोजाना की तरह पूजा-अर्चना होती है. गुस्साए ग्रामीण इकठ्ठा होकर भगवान ठाकुर जी की प्रतिमा को लेकर उपजिलाधिकारी कार्यालय में धरने पर बैठ गए.

गुस्साए ग्रामीणों का आरोप है कि सुधा रानी नाम की महिला ने पुजारी से जबरदस्ती मंदिर में लगी कृषि भूमि की रजिस्ट्री करा ली और पुजारी को भगा दिया. उन्होंने उप-जिलाधिकारी से भगवान की जमीन वापस दिलाने की मांग की है. धरना दे रहे ग्रामीणों ने तहसीलदार पर रिश्वत लेकर मंदिर की जमीन लिखवाने का भी आरोप लगाया है.

मऊरानीपुर की उपजिलाधिकारी (एसडीएम) वान्या सिंह ने बताया कि ग्रामीणों को समझा-बुझा लिया गया है और नियमानुसार मंदिर की जमीन वापस करने की कार्रवाई की जाएगी.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर