मिसाल! झांसी में अपनी सैलरी के पैसे से गरीबों की मदद कर रहे ये पुलिसवाले

उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में पुलिस का मानवीय चेहरा देखने को मिला. वैसे तो आपने अक्सर देखा होगा कि रात के अंधेरे में पुलिस बदमाशों को पकड़ने के लिए निकलती है, लेकिन झांसी की पुलिस रात को सड़क किनारे ठिठुर रहे गरीबों को कम्बल बांटती नजर आई.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 12, 2017, 4:17 PM IST
मिसाल! झांसी में अपनी सैलरी के पैसे से गरीबों की मदद कर रहे ये पुलिसवाले
झांसी पुलिस के सिपाही और दारोगा कर रहे हैं गरीबों की मदद
ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 12, 2017, 4:17 PM IST
उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में पुलिस का मानवीय चेहरा देखने को मिला. वैसे तो आपने अक्सर देखा होगा कि रात के अंधेरे में पुलिस बदमाशों को पकड़ने के लिए निकलती है, लेकिन झांसी की पुलिस रात को सड़क किनारे ठिठुर रहे गरीबों को कम्बल बांटती नजर आई.

दरअसल पुलिस के कुछ दरोगा और सिपाही अपनी पगार से कुछ पैसा मिलकर गरीबों की मदद पिछले पांच साल से करते आ रहे हैं. पांच साल पहले उम्मीद रोशनी नाम की संस्था के साथ सिपाही जितेंद्र यादव ने लोगों की मदद करना शुरू किया था. बाद में इस संस्था में इंस्पेक्टर दीपक मिश्रा के आलावा 15 सिपाही भी जुड़े. ये हर माह अपनी पगार से कुछ पैसा एकत्र करते हैं और इस पैसे को गरीब परिवारों की जरूरतों को पूरा करने में खर्च करते हैं. इतना ही नहीं इन पुलिसकर्मियों ने अपने पैसों से झांसी में भीख मांग कर परिवार चला रहे ऐसे 35 बच्चों का दाखिला स्कूल में करा कर पढ़ा भी रहे हैं. इन बच्चों की स्कूल की फीस हर महीने ये पुलिसकर्मी भरते हैं.

इसके आलावा ये पुलिसकर्मी बीमार लोगों का इलाज भी अपने पैसों से कराते हैं. पुलिस का यह मानवीय चेहरा देखकर लोग हैरत में हैं और उनकी तारीफ भी कर रहे हैं.

झांसी पुलिस ने उत्तर प्रदेश पुलिस के चेहरे से वो मुखौटा हटाने का काम किया है जिस मुखौटे को देख कर आम आदमी असुरक्षित महसूस करता था. झांसी पुलिस की इस पहल से जनता और पुलिस के बीच पनप रहे  भय और अविश्वास की खाई कम होती नजर आ रही है.

(रिपोर्ट: शकील हाशमी, ईटीवी यूपी)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झांसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2017, 4:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...