होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Jhansi: आधुनिकता के दौर में भी सदर बाजार की रामलीला ने परंपराओं को रखा जिंदा, जानें इतिहास

Jhansi: आधुनिकता के दौर में भी सदर बाजार की रामलीला ने परंपराओं को रखा जिंदा, जानें इतिहास

Jhansi Ramleela: देशभर में रामलीला के आयोजन का तरीका बदल रहा है, लेकिन झांसी के सदर बाजार में आयोजित की होने वाली रामली ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – शाश्वत सिंह

झांसी: आज के समय में रामलीलाओं का मंचन आधुनिक होता जा रहा है. वीएफएक्स और टेक्नोलॉजी के माध्यम से रामलीला को दर्शकों के लिए आकर्षक बनाने की भरपूर कोशिश की जाती है.लेकिन आधुनिकता के इस दौर में आज भी एक ऐसी रामलीला है जिसने परंपराओं को जीवित रखा हुआ है.झांसी के सदर बाजार में आयोजित की जाने वाली रामलीला में आज भी पारंपरिक तरीकों से ही लीलाओं का मंचन किया जाता है.वर्ष 1925 से शुरु हुई यह रामलीला आज भी झांसी वालों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है.

पारंपरिक तरीकों से होती है रामलीला
98 वर्ष बीत जाने के बाद भी मंच पर पारंपरिक तरीके से ही रामलीला का मंचन किया जाता है.मंच पर एलईडी स्क्रीन की जगह रंगीन परदों का इस्तेमाल किया जाता है.आज भी डायलॉग मंच के पीछे से संचालक बोलता है और कलाकार सिर्फ हावभाव की मदद से वह दृश्य दिखाते हैं. इसके साथ ही आज भी मंच पर महिलाओं का पात्र भी पुरूषों द्वारा निभाया जाता है. दर्शकों को बांधे रखने के लिए रामलीला मंचन के बीच में कुछ मनोरंजक नाटक भी किए जाते हैं. रात 9 बजे के बाद शुरु होने वाली यह राम लीला 12 बजे तक चलती है. यहां बाहर से कलाकारों को बुलाने के बजाए क्षेत्र के नागरिकों और बच्चों द्वारा ही रामलीला का पूरा मंचन किया जाता है.

कोरोना काल में भी आयोजित हुई थी रामलीला
रामलीला मंचन की समिति के सदस्य मुकेश ने बताया कि पिछले 98 सालों से सदर बाजार रामलीला का मंचन किया जा रहा है.कोरोना काल में भी यह रामलीला अनवरत चलती रही.आधुनिकता के दौर में लोगों को अपनी परंपराओं से जोड़े रखने की कोशिश रामलीला समिति द्वारा हमेशा की जाती है.दशहरे के दिन तक हर रोज रात 9 से 12 तक इस रामलीला का मंचन किया जाता है.

Tags: Jhansi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें