• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • झांसी के इस मंदिर में जानिए क्यों टूटती है लाठियां

झांसी के इस मंदिर में जानिए क्यों टूटती है लाठियां

लठातोर

लठातोर मंदिर पर बनी हुई सुंदर नक्काशी

जहां एक भव्य झांकी सजाई जाती है और भगवान लठाटोर विहार के लिए निकलते हैं. भगवान लठाटोर के इस विहार के साथ ही मेला शुरू होता है. मेले में लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं को भीड़ होती है.

  • Share this:

    बुंदेलखंड क्षेत्र के झांसी जिले में आने वाला मऊ रानीपुर ब्लॉक है. यहां हर साल भादो मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी से जल विहार मेले की शुरुआत होती है. मेले की शुरुआत मऊरानीपुर के प्रसिद्ध लठाटोर मंदिर से होती है. जहां एक भव्य झांकी सजाई जाती है और भगवान लठाटोर विहार के लिए निकलते हैं. भगवान लठाटोर के इस विहार के साथ ही मेला शुरू होता है. मेले में लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं को भीड़ होती है. ये मेला अगले एक महीने तक चलता है और इस एक महीने में यहां के अलग अलग क्षेत्रों के सभी देवी देवता विहार के लिए निकलते हैं. पिछले दो सालों से कोविड के चलते भगवान का ये विहार नहीं हो पाया है.

    मंदिर का नहीं है कोई ट्रस्ट

    यहां आपको बताते चले कि यहां श्री कृष्ण को लठाटोर के नाम से जाना जाता है.कहा जाता है कि वो अपने बचपन में जब विहार के लिए निकलते थे तो अपने रथ में लगी लाठी तोड़ दिया करते थे. जिस से उनका नाम लठाटोर पड़ा. आज भी जब भगवान विहार के लिए निकलते हैं तो रास्ते में लट्ठ टूट जाया करते है. मंदिर के पुजारी गणेश तिवारी के अनुसार मंदिर का कोई ट्रस्ट नहीं है और ये मन्दिर तिवारी परिवार की पैतृक संपत्ति है जहां इस परिवार की दसवीं पीढ़ी मंदिर की सेवा में लगी है. मऊरानीपुर में लगने वाले इस विशाल जल विहार मेले में लाखों श्रद्धालु आते हैं. यहां पूरे महीने चलने वाले इस मेले में कई तरह के सास्कृतिक आयोजन किए जाते हैं. बुंदेलखंड की लोक कलाओं का भी प्रदर्शन किया जाता है. और इस मेले की भव्यता देखने लायक होती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज