होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Jhansi News: नींबू और मौसमी की खेती से चमकेगी किसानों की किस्मत, जानिए क्या है योजना?

Jhansi News: नींबू और मौसमी की खेती से चमकेगी किसानों की किस्मत, जानिए क्या है योजना?

भरारी कृषि विज्ञान केन्द्र में तैयार किए गए नींबू के उन्नत पौधे

भरारी कृषि विज्ञान केन्द्र में तैयार किए गए नींबू के उन्नत पौधे

UP News: कृषि विज्ञान केंद्र भरारी के वैज्ञानिक आदेश कुमार ने कहा कि झांसी में बागवानी को बढ़ावा देने के मकसद से यह खास ...अधिक पढ़ें

  • Local18
  • Last Updated :

    रिपोर्ट – शाश्वत सिंह

    झांसी के किसानों को परंपरागत खेती के अलावा को अन्य प्रयोगों के लिए भी लगातार प्रोत्साहित किया जा रहा है. इसी क्रम में झांसी के भरारी स्थित कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा किसानों को नींबू वर्गीय बागवानी के लिए प्रेरित किया जा रहा है. विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक किसानों के लिए खास तरह की नींबू, मौसमी, किन्नू आदि की पौध विकसित कर रहे हैं.इस पौध को झांसी के विभिन्न किसानों को आने वाले दिनों में उपलब्ध कराया जाएगा.इसके साथ ही इस पौध को तैयार करने के गुर भी किसानों को सिखाए जायेंगे.

    किसानों को दिए जाएंगे नींबू के उन्नत पौधे
    कृषि विज्ञान केंद्र में छह हजार से अधिक नींबू वर्ग का कलमी पौधा तैयार किया गया है.फिल्हाल रूट स्टॉक तैयार किया गया है.इन विशेष कलमी पौधों की खासियत यह है कि स्थानीय प्रजाति के उपलब्ध पौधों पर उन्नत किस्म के कलम चढ़ाकर इन्हें विकसित किया जा सकता है.इस तरीके से उन्नत किस्म की नींबू वर्गीय पौध तैयार होगी.यह पौध किसानों के लिए आमदनी के लिहाज से काफी मददगार साबित हो सकती है.कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा आदिवासी किसानों को यह निशुल्क पौध निशुल्क उपलब्ध कराएगा.अन्य किसान इसे लागत की दर पर हासिल कर सकेंगे.

    किसानों को भी सिखाई जाएगी पौध तैयार करने की तकनीक
    कृषि विज्ञान केंद्र भरारी के वैज्ञानिक आदेश कुमार ने कहा कि झांसी में बागवानी को बढ़ावा देने के मकसद से यह खास पौध तैयार किए जा रहे हैं.हम उन्नत किस्म की नींबू,मौसमी, किन्नू आदि की पौध तैयार कर रहे हैं और इसके लिए अभी स्थानीय प्रजाति की पौध से रूट स्टॉक तैयार कर रहे हैं.इसके बाद बेहतर उपलब्ध प्रजाति की कलम मंगाकर पौध को विकसित करेंगे.पौध को विकसित करने की प्रक्रिया के तहत हम स्थानीय किसानों को इसे तैयार करने का भी तरीका सिखाएंगे.इससे किसान इनकी पैदावार के माध्यम से आमदनी बढ़ा सकेंगे और इसकी बेहतर पौध भी तैयार करने का काम स्थानीय स्तर पर लोग कर सकेंगे.

    Tags: Jhansi news, UP news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें