Home /News /uttar-pradesh /

jhansi your eyes will be moist after seeing these pictures of indo pak partition an exhibition is on the railway station

भारत-पाक विभाजन की तस्वीरें देख नम हो जाएंगी आपकी आंखें, झांसी रेलवे स्टेशन पर लगी है प्रदर्शनी

Azadi Ka Amrit Mahotsav: 75 वर्ष पहले भारत को आज़ादी मिली.15 अगस्त 1947 के ऐतिहासिक दिन देश स्वतंत्र हुआ.लेकिन, इस आजादी की हमें एक बड़ी कीमत चुकानी पड़ी.यह कीमत थी विभाजन की.1947 में ही भारत का विभाजन हो गया.

रिपोर्ट: शाश्वत सिंह

झांसी. 75 वर्ष पहले भारत को आज़ादी मिली. 15 अगस्त 1947 के ऐतिहासिक दिन देश स्वतंत्र हुआ. लेकिन, इस आजादी की हमें एक बड़ी कीमत चुकानी पड़ी. यह कीमत थी विभाजन की. 1947 में ही भारत का विभाजन हो गया. विभाजन के बाद एक नया देश बना जिसे आज हम पाकिस्तान के नाम से जानते हैं. इस विभाजन से लाखों लोग बेघर हुए. कई लाख लोग पाकिस्तान से हिंदुस्तान आए. इतने ही लोग हिंदुस्तान से पाकिस्तान गए. इस विभाजन में कई लोगों की जान भी चली गई और बहुतों ने अपनों को खो दिया. इसी विभाजन विभीषिका पर आधारित एक प्रदर्शनी भारतीय रेल के झांसी मण्डल द्वारा वीरांगना लक्ष्मीबाई झांसी स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर लगाई गई है.

इस प्रदर्शनी में विभाजन के समय की तस्वीरों को प्रदर्शित किया गया है. विभाजन के दौरान भारतीय रेल ने बड़ी संख्या में लोगों को इस पार से उस पार पहुंचाया था. विभाजन के दौरान का जीवन कितना संघर्षपूर्ण था वह इन तस्वीरों के माध्यम से समझा जा सकता है. रिफ्यूजी कैंप में लोगों की जिंदगी, बिछड़ते और बिखरते परिवारों का दर्द आप इन तस्वीरों से महसूस कर सकतें हैं.

देश को अखण्ड रखना हम सबका कर्तव्य
झांसी मंडल के जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि मंडल के 4 रेलवे स्टेशनों पर ऐसी प्रदर्शनी लगाई गई है. झांसी के अलावा ग्वालियर, बांदा और उरई स्टेशन पर भी ऐसी ही प्रदर्शनी लगाई गई है. इन तस्वीरों के माध्यम से हमें यह समझना होगा कि देश का खंडित होना कितना नुकसानदायक है. इसलिए इस देश को अखंड रखना हम सबकी जिम्मेदारी और कर्तव्य है. सिंह ने बताया कि यह प्रदर्शनी 14 अगस्त तक खुली रहेगी. लोग इसे निःशुल्क देख सकते हैं.

Tags: Azadi Ka Amrit Mahotsav, Jhansi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर