होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Jhansi: मेयर और पार्षद प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में कितना कर पाएंगे खर्च, जानें नया नियम

Jhansi: मेयर और पार्षद प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में कितना कर पाएंगे खर्च, जानें नया नियम

Jhansi News: झांसी में महापौर के प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में 35 लाख रुपए तक की धनराशि खर्च कर सकते हैं. पिछ्ले निका ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- शाश्वत सिंह

झांसी. झांसी में जहां एक ओर मौसम तापमान लगातार गिर रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ चुनावी तापमान धीरे धीरे चढ़ रहा है.आरक्षण की घोषणा के साथ ही सभी दावेदार तैयारियों में जुट गए हैं.हर नेता अपनी दावेदारी और टिकट को पक्का करने के जुगत में जुटा हुआ है. इन सब के बीच चुनाव आयोग ने यह भी तय कर दिया है कि चुनाव में किस पद का प्रत्याशी कितनी धनराशि खर्च कर सकता है. झांसी में महापौर के प्रत्याशी अपने चुनाव प्रचार में 35 लाख रुपए तक की धनराशि खर्च कर सकते हैं.पिछ्ले निकाय चुनावों में यह सीमा 20 लाख रुपए थी.

जमानत राशि भी तय

इसके साथ ही पार्षद पद के प्रत्याशी 3 लाख रुपए तक की धनराशि खर्च कर सकते हैं.चुनाव आयोग ने विभिन्न पदों के प्रत्याशियों के लिए जमानत राशि भी तय कर दी है. झांसी में महापौर पद के प्रत्याशी को 6 हजार रुपए की धनराशि जमा करनी होगी.पार्षद पद के लिए अनारक्षित सीटों पर 2500 रुपए की धनराशि और आरक्षित सीटों पर 1250 रुपए तय की गई है.नगर पंचायत अध्यक्ष की अनारक्षित सीटों के लिए जमानत राशि 5 हजार रुपए और आरक्षित सीटों के लिए 2500 रुपए निर्धारित की गई है.नगर पंचायत सदस्य के लिए आरक्षित सीटों पर 2000 रुपए और अनारक्षित सीटों पर 1000 रुपए जमानत राशि तय की गई है.

एक बार फिर अनुसूचित जाति से होंगे महापौर
गौरतलब है कि, झांसी महापौर की सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दी गई है.यह आरक्षण भी झांसी शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है.अभी तक 3 बार झांसी नगर निगम के चुनाव हुए हैं.पहली बार 2007 में भी यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी.उस समय कांग्रेस के बी. लाल महापौर चुने गए थे. 2012 में महापौर की सीट अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षित रखी गई. उस चुनाव में भाजपा की किरण वर्मा महापौर चुनी गईं. 2017 में अनारक्षित सीट हुई तो रामतीर्थ सिंघल महापौर बने. अब एक बार फिर सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दी गई है.

Tags: Good news, Jhansi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें