• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Guru Purnima: जानिए आज के दिन आखिर क्यों बुंदेलखंड में सास अपनी बहुओं की उतारती हैं आरती?

Guru Purnima: जानिए आज के दिन आखिर क्यों बुंदेलखंड में सास अपनी बहुओं की उतारती हैं आरती?

झांसी: बुंदेलखंड में आषाढ़ पूर्णिमा या गुरु पूर्णिमा के दिन अनोखी परंपरा होती है.

झांसी: बुंदेलखंड में आषाढ़ पूर्णिमा या गुरु पूर्णिमा के दिन अनोखी परंपरा होती है.

Guru Purnima 2021: गुरु पूर्णिमा के दिन बुंदेलखंड में बहू-पूजा की अनोखी परंपरा. सास अपने घर की वधुओं की पूजा कर घर की सुख समृद्धि के लिए करती हैं प्रार्थना.

  • Share this:
झांसी. बुंदेलखंड (Bundelkhand) में आषाढ़ पूर्णिमा को घर की कुल वधुओं को पूजने की परंपरा है. इस दिन एक ओर जहां पूरे देश में गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) का आयोजन होता है, तो बुंदेलखंड की लोक संस्कृति में गुरु पूजा के साथ कुल वधुओं को भी पूजने और सम्मानित करने का विधान है. इतिहासकार डॉ. चित्रगुप्त बताते हैं कि बुंदेली भाषा में इसे ‘कुन घुसूं पूनै’ कहा जाता है. इस दिन परिवार की सबसे वरिष्ठ महिला या सास स्नान आदि से निवृत्त होकर दीवार पर रज और खड़िया से पट बनाती हैं. यह पट पुराने घरों में बने आलों में भी बनता था, लेकिन रसोई घर या पूजा घरों में बनाया जाता है. पट में पुतरियां बनाई जाती हैं, जिस घर में जितनी बहुएं होतीं है, उतनी ही पुतरियां बनती हैं.

डॉ. चित्रगुप्त बताते हैं कि इसके बाद गाय के गोबर से लीप कर चौक पूरा जाता है. घर की बहुएं भी स्नान आदि कर नये परिधान एवं आभूषण धारण कर पूजा स्थल पर बैठ जातीं हैं. पूजा में विविध पकवानों का प्रसाद लगाया जाता है. प्रसाद में गुड़ और घी के बुंदेली पकवान बनाए जाते हैं. पूजा में कथा कहने के बाद सास अपनी बहुओं को टीका करती हैं और आरती उतारती हैं और घर की सुख समृद्धि के लिए सभी मिलकर प्रार्थना करते हैं.

बुंदेली संस्कृति का है अहम हिस्सा
इतिहासकार डॉ चित्रगुप्त बताते हैं कि ये परंपरा विशुद्ध बुंदेली संस्कृति का भाग है. बुंदेलखंड में प्राचीन काल से ही स्त्रियां पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर घर-गृहस्थी का संचालन करती आई हैं. खेत- खलिहानों अपने पति के साथ मेहनत कर पसीना बहाते आज भी महिलाओं को देखा जा सकता है. इसीलिए स्त्रियों को लक्ष्मी का रूप यहां माना जाता है. बुंदेली संस्कृति में स्त्रियों को सम्मान देने की यह परंपरा यहां के घरों में सुख-शांति और समृद्धि लाती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज