होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /ललितपुर: होमवर्क पूरा न करने पर 4 बच्चों को दी तालिबानी सजा, मारे 40-40 डंडे

ललितपुर: होमवर्क पूरा न करने पर 4 बच्चों को दी तालिबानी सजा, मारे 40-40 डंडे

ललितपुर में मासूम बच्चों को दी गई तालिबानी सजा

ललितपुर में मासूम बच्चों को दी गई तालिबानी सजा

जिले के मड़ावरा ब्लॉक अंतर्गत धौलपुरा गांव के प्राथमिक विद्यालय में अध्ययनरत कक्षा तीन और पांचवी क्लास के चार बच्चों को ...अधिक पढ़ें

ललितपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के ललितपुर (Lalitpur) जिले के एक विद्यालय में टीचर द्वारा छोटे-छोटे बच्चों को तालिबानी सजा दिए जाने का मामला सामने आया है. आरोप है कि शिक्षक (Teacher) ने होमवर्क पूरा न करने पर छोटे-छोटे बच्चों को 40-40 डंडे मारने की सजा सुनाई. बच्चों को हाथ और पैर में डंडे मारे गए. घटना की जानकारी मिलने के बाद ग्रामीणों ने स्कूल पहुंचकर आक्रोश जताया.

पुलिस से भी की गई शिकायत

पुलिस से भी इस मामले की शिकायत की गई है. बताया जा रहा है कि जिले के मड़ावरा ब्लॉक अंतर्गत धौलपुरा गांव के प्राथमिक विद्यालय में अध्ययनरत कक्षा तीन और पांचवी क्लास के चार बच्चों को शिक्षक पुष्पेंद्र सोनी ने तालिबानी अंदाज में सजा दी. बच्चों का कसूर सिर्फ इतना था कि उन्होंने होमवर्क नहीं किया था. जिसके चलते शिक्षक ने बच्चों को 40-40 डंडे मारे. बच्चों के शरीर पर बने पिटाई के निशान शिक्षक के जुल्म की गवाही दे रहे हैं.

बीएसए ने दिए जांच के आदेश

फिलहाल गांव वालों ने पुलिस से भी शिकायत की है. इस मामले को लेकर बीएसए महाराज स्वामी ने जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा कि एबीएसए से जांच कराई जाएगी, जो भी तथ्य उभरकर सामने आएंगे, उस आधार पर कार्यवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि पुष्पेन्द्र सोनी नमक शिक्षक ने यह पिटाई की है. जब यह बात अभिभावकों को पता चली तो उन्होंने शिकायत की है. मामले में पुलिस से भी शिकायत की गई.

शिकायतकर्ता अरविंद ने बताया कि बच्चों की पिटाई के बाद जब पुलिस से शिकायत की गई तो टीचर ने पैसे के बल पर अभिभावकों को थाने जाने से भी रोका गया. उन्होंने कहा कि यह अक्सर बच्चों को मारते थे. लेकिन 15 फ़रवरी को तो हद ही कर दी. बच्चों को 40-40 डंडे मारे गए. जब शिकायत करने थाने जा रहे थे तो दबंगों ने उन्हें रोका और मारपीट भी की.

ये भी पढ़ें:

योगी सरकार के चौथे बजट पर साधु-संतों की नजर, अयोध्या के लिए विशेष पैकेज की मांग

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें