सोनभद्र की तरह ललितपुर में भी है सोने का भंडार, कनाडा की एजेंसी ने की है पुष्टि...
Jhansi News in Hindi

सोनभद्र की तरह ललितपुर में भी है सोने का भंडार, कनाडा की एजेंसी ने की है पुष्टि...
ललितपुर में भी हैं सोने के भंडार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सोनभद्र जनपद में सोने की खदान (Gold mine) मिलने के बाद अब उम्मीद बढ़ गई है कि ललितपुर जिले में जो करीब 20 वर्षो से सोने की खोज की जा रही है जो शायद अब मुकाम तक पहुंच जाए

  • Share this:
ललितपुर. बुन्देलखण्ड (Bundelkhand) का नाम जेहन में आते ही सूखा, बेरोजगारी और पलायन जैसी तश्वीर उभरने लगती है, तो वहीं दूसरी ओर बुन्देलखण्ड की धरती रत्न गर्भा भी है. यह माटी अपनी कोख में हीरा (Dimond), सोना (Gold) सहित रॉक फॉस्फेट जैसे बहु-लाभकारी खनिज (Minerals) छिपाए बैठी है. इस सब के बावजूद बुन्देलखण्ड से गरीबी, बेरोजगारी और पलायन जैसी समस्याएं खत्म नहीं हो रही हैं. खनिज संपदा से परिपूर्ण इस अंचल में वर्षो से सोने की तलाश जारी है. देश की विभिन्न खनिज जांच एजेंसियों समेत कनाडा की खनिज सर्वेक्षण एजेंसी (Canadian Mineral Survey Agency) भी जांच कर यहां सोने की उपलब्धता का दावा कर चुकी है. इसके बाद भी शोध के नाम पर यहां से लगातार केवल सैम्पलिंग ही की जा रही है. सोनभद्र में सोने की खदान मिलने के बाद अब ललितपुर को भी आस बंधी है कि जल्दी ही यहां भी खोज पूरी हो जाएगी.

प्राकृतिक संपदा का अटूट भंडार
बुन्देलखण्ड का ललितपुर जिला भले ही विकास के मामले में काफी पीछे हो, लेकिन यहां प्राकृतिक संपदा का अटूट भंडार है. नदियां, घने जंगल और इमारती पत्थर के लिए मशहूर इस जिले में कुछ ऐसी खनिज संपदाएं भी छिपी हुई हैं जिससे इस अंचल के दिन बहुर सकते हैं. सोनभद्र जनपद में सोने की खदान मिलने के बाद अब उम्मीद बढ़ गई है कि ललितपुर जिले में जो करीब 20 वर्षो से सोने की खोज की जा रही है जो शायद अब मुकाम तक पहुंच जाए. उत्तर प्रदेश खनिकर्म एवं पुरातत्व विभाग और भारतीय भू-सर्वेक्षण विभाग द्वारा मड़ावरा विकास खण्ड के आधा दर्जन गांवों के भू-भाग के कुछ स्थानों को चिन्हित कर खनिजों की उपलब्धता की तलाश की गयी. इस जांच के दौरान नमूने आगरा, दिल्ली और हैदराबाद प्रयोगशालाओं को भी भेजे गये. प्रयोगशालाओं में जांच के उपरांत सोना, प्लेटिनम जैसी महत्वपूर्ण खनिजों की उपलब्धता की जानकारी मिली थी. इसके पश्चात भारत सरकार ने पुनः कनाडा की खनिज सर्वेक्षण एजेन्सी से भी उक्त खनिजों की जांच करायी थी. इस जांच एजेंसी ने भी मड़ावरा के इकौना क्षेत्र में प्लेटिनम और गिरार क्षेत्र में सोने की पर्याप्त उपलब्धता की पुष्टि की थी.

इसके बाद से आज तक इन खनिज क्षेत्रों में मात्र सर्वेक्षण के नाम पर सैम्पलिंग होती आ रही है. पिछले कई वर्षों से केवल बरसात के दिनों में ही सैम्पलिंग का कार्य बंद रहता है, शेष आठ महीने मशीनों से विभिन्न क्षेत्र में खनिज सैम्पलिंग चलती रहती है. निकाले गए पत्थरों को लगातार प्रदेश स्तर पर कहीं भेजा जाता रहता है. लेकिन दशकों बाद भी अब तक फाइनल रिपोर्ट के नाम पर ललितपुर जिले के विभिन्न गांवों के भू-भाग पर मशीनों से पत्थरों को निकाला जा रहा है. बताते चलें कि कनाडा की भू-सर्वेक्षण टीम ने मात्र जमीन तल से एक मीटर गहराई पर ही सोने की उपलब्धता जताई थी. यह उपलब्धता 25 किलोमीटर लम्बाई और 2.5 किलोमीटर चौड़ाई में होने की बात कही गयी थी, लेकिन कई वर्षों बाद भी खनिजों की खोज जारी है अब सोनभद्र में सोने की खदान मिलने के बाद यहां के लोगों को भी आस बंधी है कि जल्दी ही ललितपुर में भी सोने की खोज पूरी हो जाएगी.
 



ये भी पढ़ें- तस्वीरों में देखिए सोनभद्र की वो जगह, जहां मिली है सबसे बड़ी सोने की खदान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading