होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /झांसी में दूर-दूर तक होती है रानी कमांडो की चर्चा, क्राइम की ऐसी गुत्थियों को सुलझाया, जिसे अफसर भी...

झांसी में दूर-दूर तक होती है रानी कमांडो की चर्चा, क्राइम की ऐसी गुत्थियों को सुलझाया, जिसे अफसर भी...

World Dog Day: झांसी पुलिस के डॉग स्क्वायड की रानी कमांडो पूरे शहर में चर्चा का विषय बनी रहती है. 10 साल की रानी ने अपर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

झांसी पुलिस के डॉग स्क्वायड की रानी कमांडो पूरे शहर में चर्चा का विषय बनी रहती है.
10 साल की रानी ने क्राइम की कई अनसुलझी गुत्थियों को सुलझाया है.
2014 में रानी को टेकमपुर के डॉग ट्रेनिंग सेंटर से झांसी लाया गया था.

रिपोर्ट- शाश्वत सिंह

झांसी: पुलिस के डॉग स्क्वायड की रानी कमांडो पूरे शहर में चर्चा का विषय बनी रहती है. 10 साल की रानी ने कई ऐसी अनसुलझी गुत्थियों को सुलझाया है जिसे कई अधिकारी भी नहीं सुलझा पा रहे थे. 2014 में रानी को टेकमपुर के डॉग ट्रेनिंग सेंटर से झांसी लाया गया था. इसके बाद से उसने आज तक 250 से अधिक केस सुलझाए हैं. इसके साथ ही पुलिस को कई ऐसे अहम सुराग भी ढूंढ कर दिए हैं जिनसे कई बड़े अपराधियों को पकड़ने में पुलिस को मदद मिली.

झांसी रेंज में एकमात्र स्निफर डॉग

रानी के हैंडलर शिवजीत सिंह यादव ने बताया कि साल 2014 में रानी को झांसी लाया गया था. आज वह पूरे झांसी रेंज में एकमात्र स्निफर डॉग है. इसकी वजह से उस पर दबाव भी ज्यादा है. बढ़ती उम्र के साथ ही वह थकने भी लगी है और अपनी साथी लूसी की मृत्यु के सदमे से भी वह पूरी तरह उभर नहीं पाई है. हालांकि, झांसी के एसएसपी ने डॉग स्क्वायड में डॉग की संख्या बढ़ाने के लिए प्रशासन को चिट्ठी भेज दी है.

कई बार किया जा चुका है सम्मानित
शिवजीत सिंह ने बताया कि झांसी के पुलिस लाइन में रानी का पूरा ख्याल रखा जाता है. डॉग स्क्वायड के लिए जो नियम तय किए गए हैं उसके तहत ही उसे भोजन दिया जाता है. इसके अलावा हर रोज उसकी ट्रेनिंग होती है और एक्सरसाइज भी करायी जाती है. रानी को उसकी बहादुरी और केस सुलझाने में अहम भूमिका निभाने के लिए कई बार एसएसपी और डीआईजी द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है.

Tags: Jhansi news, Jhansi Police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें