Home /News /uttar-pradesh /

झांसी में एस जिन टेस्टिंग किट से पता लगेगा ओमिक्रोन 

झांसी में एस जिन टेस्टिंग किट से पता लगेगा ओमिक्रोन 

झांसी

झांसी में ओमनीक्रोन वैरिएंट की जांच को लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है

उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस वैरिएंट से लड़ने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं.  झांसी में जहां एक ओर जिलाधिकारी ने लोगों को कोरोना के दृष्टिगत सभी दिशानिर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया है, तो वहीं दूसरी ओर मेडिकल कॉलेज ने भी अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी है. 

अधिक पढ़ें ...

    कोरोना के दो लहर को झेलने और कुछ हद तक उसे हरा लेने के बाद जब देश को लगने लगा था कि हम इस महामारी से बाहर आ रहे हैं, तब ही एक नए वैरिएंट ने पूरे देश को दहशत में ला दिया है.जी हां,इस वैरिएंट का नाम है ओमनीक्रोन.जो सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था.ओमनीक्रोन कई देशों में फैल रहा है और भारत में भी इसकी एंट्री हो चुकी है.कर्नाटक में दो केस आने के बाद केन्द्र स्वास्थ्य मंत्रालय और प्रदेश सरकारें काफी एक्टिव हो गई हैं.उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस वैरिएंट से लड़ने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं. झांसी में जहां एक ओर जिलाधिकारी ने लोगों को कोरोना के दृष्टिगत सभी दिशानिर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया है, तो वहीं दूसरी ओर मेडिकल कॉलेज ने भी अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी है.

    एस जिन करेगा ओमनीक्रोन वैरिएंट की पुष्टि
    झांसी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिनोम सीक्वेंसिंग की शुरुआत करने की इजाजत दे दी है.मगर, इसकी मशीन और बाकी इक्विपमेंट्स आदि की खरीद में कुछ समय लग सकता है. लेकिन, इसकी वजह से ओमनीक्रोन वैरिएंट की जांच में कोई रुकावट ना आए इसके लिए टेस्टिंग किट्स का इंतजाम कर लिया गया है.एस जिन नाम की इस किट से ओमनीक्रोन के संदिग्ध व्यक्ति की जांच की जा सकती है.मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एन. एस. सेंगर के अनुसार जिन कोरोना मरीजों में ओमनीक्रोन स्ट्रेन होता है, उनमें एस जिन नहीं मिलता है.तो इससे यह बात स्पष्ट होती है कि एस जिन किट से रिपोर्ट पॉजिटिव होता है तो यह ओमनीक्रोन नहीं होता है. यह रिपोर्ट नेगेटिव होती है तो मरीज में ओमनीक्रोन होने की आशंका है. झांसी के महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में ऐसी 250 किट्स फिलहाल उपलब्ध हैं.

    कोरोना नियमों का पालन है जरूरी
    झांसी के महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ एन. एस. सेंगर के अनुसार फिलहाल कोरोना के किसी भी वैरिएंट से बचने के लिए सबसे आसान तरीका टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, टीकाकरण और कोरोना के दृष्टिगत बताए गए नियमों का पालन करना जरूरी है.उनके अनुसार फिल्हाल हर वैरिएंट से लड़ने के लिए यही तरीके सबसे कारगर साबित होगा.

    (रिपोर्ट – शाश्वत सिंह)

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर