जानिए क्‍यों इस स्‍कूल के बाहर टीचर का इंतजार करते हैं स्‍टूडेंट्स

ये पूरा मामला झांसी जिले में गरौठा तहसील के मढ़ा प्राथमिक विद्यालय का है, जहां तीन अध्यापक नियुक्‍त हैं, लेकिन ये सभी शिक्षक कभी सही समय पर स्‍कूल नहीं पहुंचते है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2018, 2:54 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2018, 2:54 PM IST
यूपी में शिक्षा का स्‍तर कितना बदतर है इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि यहां के स्‍कूल ही सही समय पर नहीं खुलते हैं. समय पर स्‍कूल नहीं खुलने की वजह से बच्‍चे घर से स्‍कूल आ तो जाते हैं लेकिन पढ़ने के बजाए क्‍लासरुम के बाहर टीचर के आने का इंतजार करते रहते हैं.

ये पूरा मामला झांसी जिले में गरौठा तहसील के मढ़ा प्राथमिक विद्यालय का है, जहां तीन अध्यापक नियुक्‍त हैं, लेकिन ये सभी शिक्षक कभी सही समय पर स्‍कूल नहीं पहुंचते है. इसकी वजह हमेशा ही छात्रों को क्‍लासरुम में ताला लटका मिलता है. नतीजा ये होता है कि ये सभी छात्र-छात्राएं क्‍लासरुम के बाहर या फिर खेल के मैदान में खेलते रहते हैं,  जब इस बारे में बीएसए हरिवंश कुमार सिंह से पूछताछ की गई तो उन्‍होंने बताया कि सभी शिक्षकों को समय पर पहुंचने और समय से पहले स्‍कूल न छोड़ने के निर्देश हैं, बावजूद इसके अगर कोई मामला सामने आता है तो जांच कराकर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें: भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह का बयान, ‘भगवान का प्रसाद समझ कर पैदा करें बच्‍चे’ 

यह भी पढ़ें: आरक्षण को लेकर मराठा समूहों का महाराष्ट्र बंद आज, पुणे में नहीं खुलेंगे स्कूल कॉलेज 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर