होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Swacchta Sarvekshan 2022: स्वच्छता में लुढ़की झांसी की रैंकिंग, जानिए कहां रह गई कमी.. कौन है जिम्मेदार 

Swacchta Sarvekshan 2022: स्वच्छता में लुढ़की झांसी की रैंकिंग, जानिए कहां रह गई कमी.. कौन है जिम्मेदार 

प्रतीकात्मक तस्वीर 

प्रतीकात्मक तस्वीर 

स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 ने उत्तर प्रदेश के कई शहरों और नगर निकायों को करारा झटका दिया है. अधिकतर शहरों की रैंकिंग में ग ...अधिक पढ़ें

शाश्वत सिंह

झांसी. उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव से ऐन पहले जारी हुए स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 के नतीजों में कई शहरों और नगर निकायों को करारा झटका दिया है. प्रदेश के अधिकतर शहरों की रैंकिंग में गिरावट आई है. झांसी भी इससे अछूता नहीं है. स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 के द्वारा जारी रैंकिंग में झांसी प्रदेश स्तर पर पांचवे नंबर पर रहा है. पिछले सर्वेक्षण में झांसी दूसरे स्थान पर रहा था. देश के सभी शहरों की बात करें तो वहां भी झांसी 18वें नंबर से लुढ़क कर 57वें स्थान पर आ गया है.

विस्तृत परिणाम देखा जाए तो झांसी नगर निगम में कुल 60 वार्ड हैं. वर्ष 2011 में हुई जनगणना के आधार पर झांसी की कुल आबादी 5,05,693 है. नगर निगम क्षेत्र में कुल 250 मैट्रिक टन कूड़ा इकट्ठा होता है. सर्वेक्षण के अनुसार 80 प्रतिशत जगहों से कूड़ा उठाया जाता है, लेकिन मात्र 30 प्रतिशत कूड़े का ही प्रोसेसिंग होता है. सिटीजन वाइस 1651.79 अंक मिले हैं. कुल 7500 अंक में से झांसी को 4770 अंक मिले हैं.

कमियों को किया जायेगा दूर
झांसी के महापौर रामतीर्थ सिंघल ने कहा कि निश्चित ही हमारी रैंकिंग में गिरावट आई है. हर वर्ष रैंकिंग के पैरामीटर बदलते रहते हैं. हमने कुछ पैरामीटर पर अच्छा किया है, कुछ क्षेत्रों में हम पीछे रह गए हैं. हमारे पास अभी सॉलिड मैनेजमेंट सिस्टम नहीं है, इस पर काम किया जा रहा है और जल्द ही यह सिस्टम शुरू हो जायेगा. इसके साथ ही सीवरेज लाइन न होना भी एक कमी रही. इस सर्वेक्षण से यह बात समझ आई है कि कूड़ा उठान का प्रबंधन झांसी में अच्छा है. अब हमें कूड़े के निस्तारण पर काम करने की आवश्यकता है. हम निश्चित रूप से अधिक मेहनत करेंगे. उन्होंने कहा कि पब्लिक वोटिंग में भी हम पिछड़े हैं. नागरिकों को और अधिक जागरूक करने के लिए अभियान चलाया जाएगा.

नागरिकों को किया जायेगा जागरूक
अपर नगर आयुक्त मोहम्मद कमर ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण की विस्तृत रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. उस पर स्टडी करने के बाद ही सभी कमियां पता चल सकेगी. फिल्हाल हम वेस्ट सेग्रेगेशन में पीछे रह गए हैं. नागरिकों को भी गीला, सूखा और सॉलिड कूड़े को अलग-अलग रखना होगा. इससे बेहतर प्रबंधन हो सकेगा और अगली बार बेहतर रैंकिंग मिल पायेगी.

Tags: Cleanliness survey topper list, Jhansi news, Swachh Survekshan, Swachhta Abhiyaan, Up news in hindi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें