सूखे से किसान परेशान, बंजर खेतों में उड़ रही है धूल

बुंदेलखंड के किसानो की मुसीबते बढ़ती ही जा रही है. पिछले साल अति वर्षा से किसानों की फसलें तबाह हो गई थी तो इस साल सूखा पड़ जाने से खरीफ में बोई गई तिल, ज्वार, उड़द और मसूर की फसलें पानी ना बरसने से सूख गई हैं. मजबूर किसानों ने अपनी खड़ी फसलों पर जानवर छोड़ दिए और अब हर खेत सूखे बंजर दिखाई दे रहे हैं.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 22, 2017, 8:14 PM IST
सूखे से किसान परेशान, बंजर खेतों में उड़ रही है धूल
(Demo Pic)
ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 22, 2017, 8:14 PM IST
बुंदेलखंड के किसानों की मुसीबतें बढ़ती ही जा रही हैं. पिछले साल अति वर्षा से किसानों की फसलें तबाह हो गई थी तो इस साल सूखा पड़ जाने से खरीफ में बोई गई तिल, ज्वार, उड़द और मसूर की फसलें पानी ना बरसने से सूख गई हैं. मजबूर किसानों ने अपनी खड़ी फसलों पर जानवर छोड़ दिए और अब हर खेत सूखे बंजर दिखाई दे रहे हैं.

किसानों का दर्द

बहुत सालों बाद इस साल तिल की फसल बहुत अच्छी हुई थी. खेतो में लहलहाती तिली की फसल देख कर किसान बहुत खुश थे पर बरसात ने फिर धोखा दिया और औसत से आधी भी बारिश नहीं हुई नतीजतन किसानों के सामने फिर से भुखमरी और कर्ज का संकट पैदा हो गया है.

कई सालो के बाद इस साल खरीफ की बहुत अच्छी फसल हुई थी हर खेत में तिली , ज्वार , मूंग , उर्द की फसले लहलहा रही थी अपने खेतों में लहलहाती फसलें देख कर किसानों को अच्छी फसल घर आने की उम्मीद थी पर  इस इलाके में औसत से 43 % ही बरसात हुई नतीजन फसले सूख गई और सूखा पड़ गया है अब खेतों में सिर्फ धूल उड़ रही है.

बुन्देलखण्ड में सूखा पड़ने के बाद यहां के सभी सात जिलों में फसलें सूख जाने से परेशान किसानों ने अपने जानवर आवारा छोड़ दिए हैं. बड़ी तादाद में किसानों का पलायन भी शुरू हो गया है. बर्बाद और तबाह हो चुके किसानों की स्थिती पर केंद्र और प्रदेश सरकार भी चिंतित है.  प्रदेश के मुखिया सुखा ग्रस्त घोषित कर मुआवजे देने की बात कर रहे हैं.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झांसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 22, 2017, 8:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...