योगी के मंत्री बोले- ‘राम के शबरी’ के घर खाना खाना बहुत ही सुखद अनुभव

मैं क्षत्रिय पुत्र हूं. मेरे रक्त में देश, समाज और धर्म की रक्षा का दायित्व है. राम ने भी शबरी के जूठे बेर खाए थे.

Ashwani Mishra | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 2, 2018, 12:47 PM IST
Ashwani Mishra | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 2, 2018, 12:47 PM IST
2019 के लोकसभा चुनाव से पहले दलितों को लुभाने के लिए बीजेपी के मंत्री, सांसद और विधायक ग्राम स्वराज अभियान के तहत दलित बाहुल्य गांवों में चौपाल लगाने के साथ साथ दलित के घर खाना भी खा रहे है. इसी के तहत झांसी में एक दिन के दौरे पर आए जिले के प्रभारी मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ़ मोती सिंह ने गढ़मऊ गांव में चौपाल के बाद दलित परिवार के घर रात्रि भोजन की परंपरा का भी निर्वहन किया. उनके अन्य विधायकों और कार्यकर्ताओं ने भी दलित के घर पर खाना खाया. दलित के घर खाना खाने को खुद का सौभाग्या बताते हुए प्रभारी मंत्री ने कहा कि दलित के घर खाना बहुत ही सुखद अनुभव होता है.

उन्होंने कहा, “हर व्यक्ति को रात में भूख लगती है. हर कोई घर का बना पकवान खाता है. मुझे भी एक दलित के घर में बने पकवान खाने का सौभाग्य मिला. इसका निर्देश देश के प्रधानमंत्री का है. जिसका आदेश देश के मुख्यमंत्री का है. उनका कहना है कि डाक बंगले की घी से चुपड़ी रोटी मत खाइए. जरा जाइए ‘राम के शबरी’ के यहां उसकी सुखी रोटी में कितना दम है उसे मुंह से पेट में डालकर अंदाजा लगाइए उसमें कितनी उर्जा मिलती है और कितनी शक्ति मिलती है. कितना मजबूत भाईचारे का संचार आपके शरीर में होता है उसे प्राप्त कीजिए.”



मीडिया से बातचीत में मंत्री ने कहा, “ मैं क्षत्रिय पुत्र हूं. मेरे रक्त में देश, समाज और धर्म की रक्षा का दायित्व है. राम ने भी शबरी के जूठे बेर खाए थे. मैं प्रदेश सरकार के मंत्री के रूप में पुनः साधुवाद देना चाहूंगा देश के प्रधानमंत्री को जिन्होंने हमें इस दिशा की ओर मोड़ा. इनको जोड़कर. इनका प्यार देख रहे हैं आप. पूरे परिवार के चेहरे का भाव पढ़िए. इन्हें लगता है कि इन्हें कोई अलमोल चीज मिली है, जिसे ये खरीद नहीं सकते."

राजेंद्र प्रताप सिंह ने कहा, “ राम और शबरी का संवाद रामायण में है. आज जब ज्ञानजी की मां ने मुझे रोटी परोसी तो उन्होंने कहा मेरा उद्धार हो गया. किसी राजा के यहां भोजन किया होता तो शायद उनकी मां ने ये न कहा होता.”

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...