लाइव टीवी

कन्नौज जिला अस्पताल में नौकरी से हटाए गए 63 स्वास्थ्यकर्मी, धरने पर बैठे कर्मचारी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 2, 2019, 7:37 AM IST
कन्नौज जिला अस्पताल में नौकरी से हटाए गए 63 स्वास्थ्यकर्मी, धरने पर बैठे कर्मचारी
कन्नौज जिला अस्पताल में नौकरी से हटाए गए 63 स्वास्थ्य कर्मी

जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ.यूसी चतुर्वेदी ने बताया कि शासन से अभी कोई आदेश नहीं मिला है. आउटसोर्सिंग कंपनियों की संविदा 31 अक्टूबर को समाप्त हो गई थी. नया आदेश मिलने पर ही इन लोगों को काम पर रखा जाएगा.

  • Share this:
कन्नौज. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कन्नौज (Kannauj) जिला अस्पताल में टीएमएम (TMC) कंपनी द्वारा आउटसोर्सिंग (Outsourcing) के माध्यम से रखे गए 63 स्वास्थ्यकर्मियों को नौकरी से हटा दिया गया है. इससे नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने जिला अस्पताल गेट पर धरना देकर काम पर वापस रखने की मांग की है. एक साथ इतनी बड़ी संख्या में स्वास्थ्यकर्मियों को नौकरी से हटाए जाने से अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाओं पर असर देखने को मिल रहा है. इधर, धरने पर बैठे कर्मचारियों का कहना है कि सरकार उनके भविष्य के साथ खेल रही है. काम नहीं रहने से कुछ दिनों में उनका परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच जाएगा. कर्मचारियों ने सरकार से मामले में हस्तक्षेप करते हुए खुद को नियमित किए जाने की मांग की है.

बता दें कि कन्नौज जिला अस्पताल में यूपीएचएसपी (उत्तर प्रदेश हेल्थ स्ट्रेथेनिंग प्रोग्राम) के तहत पिछली सरकार में आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे गए थे. जिस कंपनी ने इन स्वास्थ्यकर्मियों को रखा था उसका अनुबंध (कॉन्ट्रैक्ट) सरकार से मार्च में ही खत्म हो गया था, लेकिन छह माह तक सरकार ने इनको काम करने का अवसर दिया. 31 अक्टूबर को समय सीमा समाप्त होने के बात जिला अस्पताल में तैनात 63 संविदाकर्मियों को नौकरी से हटा दिया गया. हटाए गए कर्मचारियों ने नारेबाजी करते हुए नियमित किए जाने की मांग की. इन्होंने कहा कि इसे लेकर उनकी हड़ताल लगातार जारी रहेगी.

बिना सूचना के नौकरी से हटाए जाने से स्वास्थ्यकर्मी नाराज हो गए हैं. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने भरोसा दिया था कि संविदा समाप्त होने के बाद सभी संविदाकर्मियों को एनआरएचएम के अंदर शामिल कर लिया जाएगा, लेकिन सरकार ने ऐसी कोई नीति नही बनाई. वहीं जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. यूसी चतुर्वेदी ने बताया कि शासन से अभी कोई आदेश नहीं मिला है. आउटसोर्सिंग कंपनियों की संविदा 31 अक्टूबर को खत्म हो गई थी. नया आदेश मिलने पर ही इन लोगों को काम पर रखा जाएगा.

ये भी पढ़ें:

पराली जलाने वालों पर सख्त हुआ अमेठी जिला प्रशासन, उड़नदस्ता टीम करेगी निगरानी

अयोध्या फैसले से पहले CM योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों को दी नसीहत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कन्नौज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 7:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...