कन्नौज के इस इत्र के मुरीद हैं सपा मुखिया अखिलेश यादव, ये रही खासियत
Kannauj News in Hindi

कन्नौज के इस इत्र के मुरीद हैं सपा मुखिया अखिलेश यादव, ये रही खासियत
अखिलेश यादव (File Photo)

उन्होंने कहा कि इत्र मिट्टी नाम की परफ्यूम की कीमत 3 हजार रुपये है. सड्डू भाई बताते हैं कि जब भी अखिलेश यादव आते हैं हम उनको उनका पसंदीद परफ्यूम उन्हें गिफ्ट करते है.

  • Share this:
कन्नौज से लोकसभा चुनाव में ताल ठोकने की तयारी कर रहे सपा मुखिया अखिलेश यादव इत्र नगरी की खुशबू के भी मुरीद हैं. कन्नौज में बनने वाली विश्व प्रसिद्द इत्र के एक खास सुगंध के मुरीद हैं. कन्नौज के पुलिस लाइन इलाके में रहने वाले इत्र कारोबारी सड्डू भाई ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि 7 फरवरी को अखिलेश यादव कन्नौज आए थे. इस दौरान हमने उनको 'इत्र मिट्टी' नाम का एक परफ्यूम दिया. जो अखिलेश यादव को बेहद पसंद है. उन्होंने कहा कि इत्र मिट्टी नाम की परफ्यूम की कीमत 3 हजार रुपये है. सड्डू भाई बताते हैं कि जब भी अखिलेश यादव आते हैं हम उनको उनका पसंदीद परफ्यूम उन्हें गिफ्ट करते है. जब प्रदेश के सीएम थे तब भी हम लोग लखनऊ जाकर अखिलेश को इत्र देते थे.

इत्र कारोबारी ने बताया कि हमारी फैक्ट्री में बने इत्र की सप्लाई सउदी अरब, इरान, इराक, ओमान आदि जगहों पर होती है. लेकिन सबसे ज्यादा डिमांड अखिलेश यादव के परफ्यूम की है. खाड़ी देशों में 'इत्र मिट्टी' नाम के परफ्यूम का निर्यात ज्यादा होती है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पत्नी और कन्नौज से सांसद डिंपल यादव भी इस  परफ्यूम को बेहद पसंद करती है.

अखिलेश यादव की पसंदीदा 'इत्र मिट्टी'




सबसे कीमती इत्र अदरऊद है, जिसे असम की विशेष लकड़ी आसामकीट से बनाया जाता है. बाजार में इसकी कीमत 50 लाख रुपये प्रति किलो है. सड्डू भाई बताते हैं कि असम में लड़की के ऊपर जो फंगस लग जाती है, उस लकड़ी को काटकर उसे इस्तेमाल कर यह इत्र तैयार होता है. यह 5000 रुपये प्रति ग्राम में मिलता है. उन्होंने कहा कि कन्नौज में तैयार इत्र पूरी तरह से प्राकृतिक गुणों से भरपूर और अल्कोहल मुक्त रखा जाता है. इसी कारण एक दवा के रूप में कुछ रोग जैसे एंग्जाइटी, नींद न आना और स्ट्रैस जैसे बीमारियों में इत्र की खुशबू रामबाण का काम करती है.
बता दें कि कन्नौज के इत्र का व्यापार पूरे भारत में फैला हुआ है. यूके, यूएसए, सउदी अरब, इरान, इराक, ओमान आदि जगहों पर भी इत्रों का निर्यात होता है. कन्नौज में इत्र बनाने की करीब 200 से ज्यादा फैक्ट्रियां हैं. इत्र का प्रयोग पूजा, खान-पान, इलाज और खास मेहमानों के स्वागत में होता था लेकिन अब इसे गुटखे, जर्दा, कॉस्मेटिक्स और पान मसाले में सुगन्ध के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:

सीएम योगी पर कभी रासुका लगाने वाले IPS जसवीर सिंह सस्पेंड

लोकसभा चुनाव से यूपी में ताबड़तोड़ प्रशासनिक फेरबदल, अब तक 231 अधिकारी इधर से उधर

बुलंदशहर: सड़क पर दो महिलाओं को रौंदते हुए नहर में गिरी कार, 5 लोगों की मौत

LIVE: पीएम मोदी देंगे काशीवासियों को 3382 करोड़ की सौगात

मथुरा: यमुना एक्सप्रेसवे पर दर्दनाक हादसा, 7 लोगों की मौके पर मौत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज