BJP MLA कैलाश राजपूत के कोरोना संक्रमित भाई ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाई, मौत
Kannauj News in Hindi

BJP MLA कैलाश राजपूत के कोरोना संक्रमित भाई ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाई, मौत
बीजेपी एमएलए के भाई कोरोना संक्रमित थे. उन्हें आज ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था. (सांकेतिक तस्वीर)

यह हादसा शुक्रवार को हुआ. वह राजकीय मेडिकल कॉलेज में बने कोविड-19 (Covid 19) अस्पताल में कोरोना संक्रमित होने के बाद शुक्रवार को भर्ती कराए गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 8:51 PM IST
  • Share this:
कन्नौज. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कन्नौज जिले में तिर्वा (Tirwa) के बीजेपी एमएलए विधायक कैलाश राजपूत (BJP MLA Kailash Rajput) के भाई संजय राजपूत ने मेडिकल कॉलेज के दूसरे तल्ले से कूद गए, जिससे उनकी मौत (Death) हो गई. यह हादसा शुक्रवार को हुआ. वह राजकीय मेडिकल कॉलेज (Government Medical College) में बने कोविड-19 (Covid 19) अस्पताल में कोरोना संक्रमित होने के बाद भर्ती कराए गए थे. ये जानकारियां पुलिस ने दी हैं. मौत की खबर पाकर बीजेपी एमएलए कैलाश राजपूत मेडिकल कॉलेज पहुंचे हैं.

7 दिनों से होम आइसोलेशन में थे

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, संजय राजपूत (45) की कोरोना रिपोर्ट 28 अगस्त को पॉजिटिव आई थी. तब से वह छिबरामऊ स्थित घर में आइसोलेशन में थे. तबीयत बिगड़ने पर शुक्रवार की सुबह उन्हें तिर्वा मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया. दूसरी मंजिल के प्राइवेट वार्ड में उन्हें रखा गया था. सूत्रों के मुताबिक, तकरीबन तीन बजे वे दूसरी मंजिल से कूद गए. उन्हें गहरी चोट आई. डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की हरसंभव कोशिश की पर संजय राजपूत की मौत हो गई.





जारी है जांच

मेडिकल कॉलेज तिर्वा के सीएमएस ने बताया कि संजय राजपूत होम आइसोलेशन में थे. शुक्रवार सुबह ही उन्हें अस्पताल में दाखिल किया गया था. दोपहर में उनके खिड़की से गिर जाने की सूचना मिली. वे किन परिस्थितियों में खिड़की से गिरे हैं, इसकी जांच चल रही है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट का सख्त रुख

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Corona Virus) के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. अब इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने इस पर सख्त रुख अपनाया है. हाईकोर्ट ने आम जनता से अपील की है कि वे मास्क पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें. कोर्ट ने चिंता जाहिर करते हुये 4 वार्ड पर एक एडवोकेट कमिश्नर नियुक्त करने का निर्देश दिया है. जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और जस्टिस अजित कुमार की खंडपीठ ने क्वारंटीन सेन्टर और अस्पतालों की दशा सुधारने के लिए दायर की गई जनहित याचिका की सुनवाई की. वहीं, प्रदेश के मुख्य सचिव ने हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल किया है.

कोर्ट ने यूपी सरकार को ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों की स्वास्थ्य व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश दिया है. इसके अलावा अदालत ने कोविड अस्पतालों की संख्या बढ़ाने की योजना का ब्लू प्रिंट तैयार कर पेश करने को भी कहा है. कोर्ट ने कहा कि जरूरी सेवाओं को अनिवार्य रूप से लागू किया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज