समाज के डर से मां ने बेटी को झाड़ियों में फेंका
Kannauj News in Hindi

सरकार का बेटी बचाओ का नारा ग्रामीण इलाकों में दम तोड़ता नजर आ रहा है. कन्नौज में बेटी पैदा होने पर कलयुगी मां उसे तालाब किनारे झाड़ियों में फेंक गई.

  • Share this:
सरकार का बेटी बचाओ का नारा ग्रामीण इलाकों में दम तोड़ता नजर आ रहा है. कन्नौज में बेटी पैदा होने पर कलयुगी मां उसे तालाब किनारे झाड़ियों में फेंक गई. सुबह जब एक ग्रामीण शौच के लिए जा रहा था तो बच्ची के रोने की आवाज सुनी. जाकर देखा देखा तो एक नवजात को कुत्तों ने घेर रखा था. ग्रमीण मे कुत्तों को भगाया और बच्ची को अपने घर ले आया.

कुत्तों के नोंचे जाने के बाद बच्ची की हालत काफी खराब थी जिसके चलते उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया. जहां उसकी हालत गम्भीर बनी हुई है. ये पूरा मामला कन्नौज के तिर्वा कोतवाली काहेतर के हरिहरपुर गांव का है जहां एक कलियुगी मां चुपचाप अपनी नवजात बच्ची को फेंककर भाग गई. नवजात इस हांड़ कंपाऊ ठंड में गांव के तालाब के किनारे झाड़ियों में पड़ी थी. कपड़ों से ढकी नवजात बच्ची को कुत्ते नोंचने की कोशिश कर रहे थे.

कपड़ा खुलने से भूखी नवजात रोने लगी. तभी शौच के लिये निकले एक ग्रामीण की नजर उस पर पड़ी. ग्रामीण ने कुत्ते को भगाने के बाद नवजात को उठाकर जिला अस्पताल में भर्ती करवाया दिया. नवजात को अस्पताल लाने वाला ग्रामीण अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगा रहा हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज