खाकी ने गर्भवती पत्नी के इलाज के लिए बेटे को बेचने से रोका, दवा का खर्च उठाएगी पुलिस

बच्चा बेचने के लिए पिता की खरीदार से सौदेबाजी चल रही थी कि पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस को देख खरीदार फरार हो गया. पुलिस ने बीमार महिला को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया और अपने खर्च पर उसके पूरे इलाज का जिम्मा लिया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 30, 2018, 6:01 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 30, 2018, 6:01 PM IST
उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में पत्नी का इलाज कराने के लिए एक पिता ने अपने एक साल के बच्चे का सौदा कर लिया. बच्चा बेचने के लिए पिता की खरीदार से सौदेबाजी चल रही थी कि पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस को देख खरीदार फरार हो गया. पुलिस ने बीमार महिला को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया और अपने खर्च पर उसके पूरे इलाज का जिम्मा लिया है.

कन्नौज मेडिकल कालेज में भर्ती महिला जिले के सौरिख थाना क्षेत्र के दारापुर बरेठी गांव की सुखदेवी है, जो 7 माह की गर्भवती है. बुधवार को अचानक उसे प्रसव पीड़ा होने लगी. हालत ज्यादा खराब होने लगी तो पति राम आसरे उसे लेकर मेडिकल कालेज पहुंचा. यहां पत्नी के इलाज के नाम पर मौजूद डॉक्टर ने उसे 25 हजार रुपए का खर्च बता दिया.

राम आसरे के दो बच्चे हैं. 5 साल की बेटी और एक साल का बेटा है. इलाज के लिए रुपए न होने पर वह पत्नी और बच्चों को लेकर बाहर आ गया. मेडिकल कॉलेज के गेट पर उसे एक व्यक्ति मिला जिसने उससे बेटे को 30 हजार रुपए में बेचने की बात की. गेट पर ही बच्चे को बेचे जाने पर सौदेबाजी चल रही थी.

ये भी पढ़ें -

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा से नहीं होगा सुभासपा का गठबंधन: ओम प्रकाश राजभर

बच्चा बेचने की सूचना किसी ने मेडिकल कालेज पुलिस चौकी इंचार्ज को दे दी. पुलिस जब तक मौके पर पहुंचती तब तक खरीदने वाला मौके से फरार हो गया. पुलिस ने पूरा मामला जान दर्द से तड़प रही गर्भवती को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया. चौकी इंचार्ज ने कहा कि महिला के इलाज का पूरा खर्च पुलिस उठाएगी. अगर उसे खून की जरूरत होगी तो पुलिसवाले अपना खून देकर उसकी जान बचाएंगे.

इस मामले में महिला के पति राम आसरे का कहना था कि डॉक्टर 25 हजार रुपए खर्च की बात कर रहे थे, जो मेरे पास नहीं थे. मेडिकल कॉलेज के गेट पर मुझे एक व्यक्ति मिला जिसने बच्चा खरीदने की इच्छा जताई. राम आसरे ने बताया की जब बेटे के बदले 25 हजार रुपए मिलते दिखे तो उसने सोचा कि क्यों न बेटे को बेच पत्नी को बचा लिया जाए. पिता ने यह भी सोचा कि बेटा अच्छी जगह चला गया तो उसकी परवरिश भी अच्छी हो जाएगी.

ये भी पढ़ें -

अपने खाली फ्लैट से करें ये बिजनेस, कमाएं 70 हजार रुपए महीना
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर