होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

कानपुर रेलवे स्टेशन पर महानंदा एक्सप्रेस से उतारे गए 12 नाबालिग बच्चे, 7 आरोपी गिरफ्तार

कानपुर रेलवे स्टेशन पर महानंदा एक्सप्रेस से उतारे गए 12 नाबालिग बच्चे, 7 आरोपी गिरफ्तार

Kanpur Police: . यह बच्चे बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल के बताए जा रहे हैं जिनको दिल्ली में ले जाया जा रहा था.

Kanpur Police: . यह बच्चे बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल के बताए जा रहे हैं जिनको दिल्ली में ले जाया जा रहा था.

Kanpur News: अमित दिवेदी के मुताबिक, पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है. पूछताछ में पता चला कि सातों आरोपित सभी बच्चों को फैक्ट्रियों व कारखानों में काम कराने के लिए दिल्ली ले जा रहे थे. सभी को गाड़ी से उतारकर स्लीपर क्लास प्रतीक्षालय पर लाया गया. इसके बाद बाल कल्याण समिति कानपुर नगर के सदस्य एवं मजिस्ट्रेट देवेंद्र प्रताप सिंह ने बच्चों से पूछताछ कर काउंसिलिंग की.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

महानंदा एक्सप्रेस में आरपीएफ-जीआरपी की छापेमारी
12 नाबालिगों को अगवा कर ले जाने की मिली थी सूचना
7 आरोपी गिरफ्तार
कानपुर सेंट्रल स्टेशन का मामला
मानव तस्करी से जुड़ा है मामला

कानपुर. कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर महानंदा एक्सप्रेस से रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) व राजकीय रेलवे पुलिस (GRP) ने 12 नाबालिग बच्चे बरामद किए. इन्हें बालश्रम के उद्देश्य से बंगाल व बिहार से लेकर आरोपित दिल्ली जा रहे थे. पुलिस की कार्रवाई के दौरान कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर हड़कंप मचा रहा. यह बच्चे बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल के बताए जा रहे हैं जिनको दिल्ली में ले जाया जा रहा था. फिलहाल पुलिस सरगना की तलाश में जुटी है.

आरपीएफ के उप निरीक्षक अमित दिवेदी ने बताया कि बचपन बचाओ आंदोलन के प्रोजेक्ट कोआर्डिनेटर की सूचना पर प्लेटफार्म नंबर एक पर रविवार रात महानंदा एक्सप्रेस आने पर तलाशी ली. इस दौरान 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. फिलहाल सभी बच्चों को कल्याणपुर स्थित राजकीय बाल संरक्षण गृह भेज दिया गया है. इन सभी बच्चों को अलग-अलग जगहों पर काम करने के लिए दिल्ली ले जाया जा रहा था. दरअसल पिछले काफी समय से इस तरह का गैंग सक्रिय जो आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवारों के बच्चों को एक मोटी रकम देकर उनसे बच्चे खरीद लेते हैं और फिर उन्हें दिल्ली वा अन्य प्रदेशों में ले जाकर बेच देते हैं.

75th Independence Day: अखिलेश यादव ने फहराया झंडा, बोले- खुशियों के साथ आज चुनौतियां भी है

अमित दिवेदी के मुताबिक, पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है. पूछताछ में पता चला कि सातों आरोपित सभी बच्चों को फैक्ट्रियों व कारखानों में काम कराने के लिए दिल्ली ले जा रहे थे. सभी को गाड़ी से उतारकर स्लीपर क्लास प्रतीक्षालय पर लाया गया. इसके बाद बाल कल्याण समिति कानपुर नगर के सदस्य एवं मजिस्ट्रेट देवेंद्र प्रताप सिंह ने बच्चों से पूछताछ कर काउंसिलिंग की.

Tags: Crime Against Child, Indian railway, Kanpur news, Train news, UP police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर