होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

कानपुर: 78 साल की महिला ने 82 वर्षीय पति पर किया देहज उत्पीड़न का केस, बुजुर्ग की आंखों से छलक आए आंसू

कानपुर: 78 साल की महिला ने 82 वर्षीय पति पर किया देहज उत्पीड़न का केस, बुजुर्ग की आंखों से छलक आए आंसू

इस केस की तारीख पर पहुंचे गणेश को जब बताया गया कि उन पर दहेज उत्पीड़न का आरोप है तो उनकी आंखों से आंसू छलक आए.

इस केस की तारीख पर पहुंचे गणेश को जब बताया गया कि उन पर दहेज उत्पीड़न का आरोप है तो उनकी आंखों से आंसू छलक आए.

बुजुर्ग महिला ने पति पर मारपीट करने और घर से निकालने का आरोप लगाया. पुलिस ने महिला की तहरीर पर 82 वर्षीय बुजुर्ग गणेश नारायण शुक्ल तथा उनके बेटे-बहु सहित छह लोगों पर केस दर्ज कर लिया है. इस मामले में हैरान करने वाली एक और बात यह भी है जिस 82 वर्षीय बुजुर्ग गणेश नारायण शुक्ल पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगा है, वह बिना सहारे के चल भी नहीं सकते.

अधिक पढ़ें ...

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur News) स्थित चकेरी में 78 साल की महिला ने अपने 82 वर्षीय पति पर दहेज उत्पीड़न (Dowry Case) का केस दर्ज कराया है. बुजुर्ग महिला ने पति पर मारपीट करने और घर से निकालने का आरोप लगाया. पुलिस ने महिला की तहरीर पर 82 वर्षीय बुजुर्ग गणेश नारायण शुक्ल तथा उनके बेटे-बहु सहित छह लोगों पर केस दर्ज कर लिया है. इस मामले में हैरान करने वाली एक और बात यह भी है जिस 82 वर्षीय बुजुर्ग गणेश नारायण शुक्ल पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगा है, वह बिना सहारे के चल भी नहीं सकते.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, यह पूरा मामला पारिवारिक विवाद का है. इस बुजुर्ग दंपति के बेटे रजनीश बताते हैं कि आज भी परिवार के सभी सदस्यों के साथ उनकी मां का अच्छा व्यवहार है. परिवार के ही कुछ लोगों के बहकावे में आकर उन्होंने दहेज उत्पीड़न का केस किया है.

ये भी पढ़ें- वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र त्यागी पर दर्ज हुआ एक और केस, युवती ने लगाए बेहद गंभीर आरोप

इस केस की तारीख पर पहुंचे गणेश को जब बताया गया कि उन पर दहेज उत्पीड़न का आरोप है तो उनकी आंखों से आंसू छलक आए. उन्होंने कोर्ट में कहा, मैं अब तक सारी जिम्मेदारियां ईमानदारी से निभाता रहा और इस उम्र में कचहरी के चक्कर लगा रहा हूं.

ये भी पढ़ें- जब वोट मांगने निकले योगी सरकार के मंत्री सड़क पर बनाने लगे चाट- Video Viral

इस मामले में वकील शिवेंद्र कुमार पांडेय बताते हैं कि सभी पक्षों से बात करने के बाद जो तथ्य सामने आए हैं, उसके मुताबिक परिवार के दूसरे सदस्यों को फंसाने के लिए दहेज कानून का गलत प्रयोग किया गया है. वह कहते हैं कि शादी के सात साल बाद दहेज का आरोप उतना प्रभावी नहीं रह जाता. फिलहाल यह मामला मध्यस्थता केंद्र में है ताकि दोनों पक्षों के बीच आपसी बातचीत से विवाद खत्म किया जा सके.

Tags: Dowry Harassment, Kanpur news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर