कानपुर में एक महिला ने कहा- भगवान मैं तुम्हारे पास आ रही हूं, अपनी शरण में लो... और ले ली जिंदा समाधि

कानपुर के घाटमपुर के सजेती थाना क्षेत्र के एक गांव में अंधविश्वास में आकर महिला ने अपनी जान खतरे में डाल दी. (प्रतीकात्मक फोटो)

कानपुर के घाटमपुर के सजेती थाना क्षेत्र के एक गांव में अंधविश्वास में आकर महिला ने अपनी जान खतरे में डाल दी. (प्रतीकात्मक फोटो)

कानपुर के घाटमपुर के सजेती थाना क्षेत्र के एक गांव में अंधविश्वास में आकर महिला ने अपनी जान खतरे में डाल दी. महिला के समाधि लेने पर ग्रामीण माला-फूल डालकर पूजा अर्चना करने लगे. सूचना पर पुलिस पहुंची और गड्ढे की मिट्टी हटवाकर महिला को जिंदा बाहर निकाल लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 12:01 PM IST
  • Share this:
कानपुर. जिले के घाटमपुर के एक गांव में सनसनीखेज घटना सामने आई, जब एक महिला ने अंधविश्वास में आकर भगवान के पास जाने के लिए खुद की जान दांव पर लगाते हुए जिंदा समाधि ले ली. घटना में उसका साथ परिजनों और ग्रामीणों ने भी दिया. समाधि लेने से पहले महिला बोली- 'भगवान मैं तुम्हारे पास आ रही हूं, मुझे अपनी शरण में लो'. इसके बाद घर के दरवाजे पर ही खोदे गए गहरे गड्ढे में महिला उतर गई. परिवार के लोगों ने चारपाई रखकर ऊपर से मिट्टी डालकर बंद कर दिया. हद तो तब हो गई जब गांव वालों ने फूल डालकर पूजा-अर्चना शुरू कर दी. सूचना मिलते ही पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और गड्ढे की मिट्टी हटवाकर महिला को सुरक्षित जिंदा बाहर निकाल लिया.

घटना मढ़ा गांव की है, जहां पर बुधवार को आस्था के नाम पर दिन भर जिंदगी से अंधविश्वास का खेल चला. गांव वालों ने बताया है कि रामसजीवन की 50 वर्षीय पत्नी गोमती काफी दिनों से घर पर ही पूजा-पाठ करती चली आ रही है. बुधवार दोपहर को गोमती ने परिवार के लोगों से कहा कि उन्हें भगवान शिव ने रात में दर्शन दिए हैं और इस पर उसने आराधना के लिए भू-समाधि लेने का निर्णय लिया है. उसके अंधविश्वास में आए घर वाले भी उसकी बातों पर यकीन कर लिया. इसके बाद घर के दरवाजे पर उसके लिए चार फीट गहरा गड्डा खोदा गया. गड्ढा खोदे जाने पर पड़ोसी भी एकत्र हो गए और कारण पूछा तो गोमती फिर अपनी अंधविश्वास भरी बातें सुनाईं.

कुछ ग्रामीणों ने उसकी बात को मजाक में उड़ा दिया और कुछ उसके अंधविश्वास में आकर साथ हो गए. इसके बाद गोमती गांव वालों के सामने गड्ढे के अंदर चली गई और परिवार वालों ने ऊपर से चारपाई रख दी. इसके बाद उसपर मिट्टी डालकर गड्ढा बंद कर दिया। गड्ढा मिट्टी से बंद हो जाने के बाद कुछ लोगों ने समाधि के ऊपर फूल डालकर भजन-कीर्तन शुरू कर दिया.

वहीं कुछ लोगों इसकी शिकायत पुलिस से कर दी. करीब चार घंटे बाद मामले की जानकारी पुलिस को हुई तो पुलिस महकमे में खलबली मच गई. घाटमपुर एसडीएम अरुण श्रीवास्तव और सीओ गिरीश कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने तत्काल समाधि की मिट्टी हटवाकर महिला को बाहर निकलवाया और सीएचसी में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद उसकी हालत खतरे से बाहर बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज