UP Panchayat Election 2021: 25 साल बाद बिकरू गांव में लगे बैनर-पोस्टर, गैंगस्टर विकास दुबे का था वर्चस्व

25 साल बाद बिकरू गांव में लगे बैनर- पोस्टर

25 साल बाद बिकरू गांव में लगे बैनर- पोस्टर

विकास (Vikas) की सरपरस्ती में चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों की जीत बाहुबल के दम पर लगभग तय होती थी.

  • Share this:
कानपुर. यूपी पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) का बिगुल बज चुका है. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में पिछले साल 2020 में 2 जुलाई की रात को बिकरु (Bikru Case) में खूनी खेल खेला गया था. जिसमें कई पुलिस के जवान शहीद हुए थे. हालांकि पुलिस ने कांड के कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Ganhster Vikas Dubey) को एनकाउंटर मार गिराया था. विकास दुबे के मारे जाने के बाद अब पहली बार यहां प्रत्याशियों के पोस्टर लगे हैं और लोग खुलकर चुनावों की चर्चा कर रहे हैं. इससे पहले विकास दुबे अपने परिवार के लोगों या चहेतों को लड़ाता था और उसका प्रत्याशी निर्विरोध जीतता था.

मतलब प्रधान की घोषणा विकास दुबे ही कर देता था, चुनाव तो खानापूर्ति ही महज होते थे. लेकिन, इस बार 25 साल बाद प्रधान पद के लिए 10 प्रत्याशी मैदान में हैं. डेढ़ हजार आबादी वाली इस पंचायत में गांव में लगे बैनर पोस्टर विकास दुबे की दहशत से आजादी का अहसास दिला रहे हैं. अब 25 साल के बाद पंचायत चुनाव में प्रत्याशी खुलकर चुनाव लड़ रहे है. पूरे इलाके में लोकतंत्र का परचम लहरा रहा है. गांव की गलियां प्रत्याशियों के पोस्टर से पटे है. यहां तक की प्रत्याशियों ने विकास के जमींदोज हुए मकान में भी अपने प्रचार के पोस्टर चिपका दिए है.

Gorakhpur News: गरीब परिवारों के लिए मसीहा बने योगी, 800 से ज्यादा बेटियों के हाथ कराए पीले

विकास की सरपरस्ती में चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों की जीत बाहुबल के दम पर लगभग तय होती थी. कई जगह तो चुनाव असलहों के दम पर निर्विरोध ही जीता जाता था. लेकिन विकास के खात्मे के बाद अब लोग खुलकर चुनाव लड़ना हैं. गांवों में सुबह-शाम प्रत्याशी अपनी चौपाल लगाकर विकास योजनाओं को समझा रहे हैं. साथ ही प्रत्याशियों की टोलियां घर-घर जाकर वोट का समर्थन मांग रही है.
1995 में विकास बना था प्रधान

कुख्यात सरगना विकास दुबे 1995 में पहली बार अपने रुतबे की दम पर प्रधान बना था. जिसके बाद बिकरू समेत आसपास के इलाकों में विकास और उसके साथियों की दहशत के साए में ही चुनाव होते थे. विरोध करने वाले प्रत्याशियों को धनबल के जरिए दबा दिया जाता था. इस बार आरक्षित सीट पर 11 उम्मीदवारों ने निर्भीक होकर पर्चा भरा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज