लाइव टीवी

कानपुर का AQI 500 के पार, सांस लेना हुआ मुश्किल...

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 13, 2019, 2:02 PM IST
कानपुर का AQI 500 के पार, सांस लेना हुआ मुश्किल...
कानपुर नगर निगम के कंटेनर में जलता हुआ कूड़ा

एक तरफ तो जिला प्रशासन व संबंधित विभागों ने कूड़ा जलाए जाने व पटाखों को लेकर गाईडलाईन जारी की थी और उसके उल्लंघन पर कार्रवाई व जुर्माने की बात भी कही थी. लेकिन शहर के सरसैया घाट पर जिस तरह से नगर निगम के कूड़ा कंटेनर में आग लगी दिखाई दी उससे लगता है कि विभाग खुद ही इसकी अनदेखी कर रहा है....

  • Share this:
कानपुर. जनपद में मंगलवार रात से AQI फिर से खतरनाक स्तर पर पहुंच गया जिसके चलते सांस के मरीजों की दिक्कतें बढ़ गईं, लोगों को आंख में जलन की शिकायत होने लगी. कुछ दिन की राहत के बाद कानपुर में AQI बढ़कर 380 हो गया और कई स्थानों पर तो ये 500 को पार गया. शहर की बिगड़ी आबोहवा में सांस लेना मुश्किल हो रहा है. वायु प्रदूषण के चलते शहर में विजिबिलटी भी कम हो गई है.

बिगड़े हालात
मंगलवार रात से ही हवा में घुले जहर से सांस लेने मे दिक्कतें होने लगी. लेकिन जिस तरह से हवा में प्रदूषण अचानक बढ़ा उसके बारे में news 18 संवाददाता ने जब लोगों से बात की तो स्थानीय लोगों का कहना है कि नगर निगम के साथ-साथ इसके जिम्मेदार वो खुद भी हैं. क्योंकि पिछले कुछ दिनों से प्रदूषण का स्तर कम हुआ था लेकिन शहर में कूड़ा जलाए जाने और कल देव दीपावली के मौके पर जिस तरह से जमकर पटाखे जलाए गए उससे शहर के हालात बिगड़ गए. एक तरफ तो जिला प्रशासन व संबंधित विभागों ने कूड़ा जलाए जाने व पटाखों को लेकर गाईडलाईन जारी की थी और उसके उल्लंघन पर कार्रवाई व जुर्माने की बात भी कही थी लेकिन इसका इम्प्लीकेशन कहीं भी नजर नहीं आता. शहर के सरसैया घाट पर जिस तरह से नगर निगम के कूड़ा कंटेनर में आग लगी दिखाई दी उससे लगता है कि विभाग खुद ही इसकी अनदेखी कर रहा है.

कानपुर में बढ़ते AQI स्तर के बावजूद धुआं-धुआं


प्रदूषण स्तर बढ़ने को लेकर नगर निगम का कहना है कि वह लगातार सड़कों पर पानी का छिड़काव करवा रहे हैं. साथ ही जोनल अधिकारियों को भी यह निर्देश दिए गए हैं कि अगर नगर निगम का कोई कर्मचारी भी कूड़ा जलाते हुए पाया गया तो उसके ऊपर भी नगर निगम जुर्माना लगाए और जुर्माने की राशि की कटौती उसके वेतन से की जाए. वहीं डीएम कानपुर का कहना है कि प्रदूषण लेवल कम करने के लिए सभी विभागों को अहतियाती कदम उठाने के निर्देश पहले से ही जारी हैं. उन्होंने कहा कि ट्रैफिक जाम भी वायु प्रदूषण बढ़ने का एक प्रमुख कारण है. जिसे लेकर यातायात विभाग को निर्देश जारी किए गए हैं कि शहर में जाम लगने की समस्या न होने पाए.

ये भी पढ़ें - मेरठ: PVVNL का बिजली चोरों, कटियाबाजों पर अब ड्रोन से शिकंजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 1:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर