कानपुर का बिकरू कांड: एसआईटी ने की DIG अनंत देव के खिलाफ जांच की सिफारिश

एसआईटी ने कानपुर एनकाउंटर में अपनी जांच 12 जुलाई को शुरू की थी.
एसआईटी ने कानपुर एनकाउंटर में अपनी जांच 12 जुलाई को शुरू की थी.

बिकरू कांड (Bikru Case) की जांच रिपोर्ट में एसआईटी ने शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा के एक पत्र और कॉल रिकॉर्डिंग के आधार पर इस जांच की सिफारिश की है. थानेदारों की ट्रांसफर, पोस्टिंग से जुड़े मामलों में ये जांच की सिफारिश की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 11:44 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. कानपुर (Kanpur) के चर्चित बिकरू कांड (Bikru Case) की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल (SIT) ने अपनी रिपोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार (UP Government) को सौंप दी है. जानकारी के अनुसार रिपोर्ट में एसआईटी ने डीआईजी अनंत देव (DIG Anant Dev) के खिलाफ जांच की सिफारिश की है. एसआईटी ने शासन को सौंपी रिपोर्ट में अनंत देव के खिलाफ जांच की सिफारिश की है. दरअसल एसआईटी ने शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा के एक पत्र और कॉल रिकॉर्डिंग के आधार पर इस जांच की सिफारिश की है. थानेदारों की ट्रांसफर, पोस्टिंग से जुड़े मामलों में ये जांच की सिफारिश की गई है.

वायरल ऑडियो में सीओ लगा रहे थे अनंत देव पर गंभीर आरोप

दरअसल बिकरू कांड में शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा का एक ऑडियो वायरल हुआ था. इस ऑडियो में बिकरू में रेड पर जाने से पहले सीओ देवेंद्र मिश्रा और एसपी ग्रामीण के बीच फोन पर बातचीत है. इसमें देवेंद्र मिश्रा चौबेपुर एसओ और पूर्व एसएसपी अनंत देव पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं.




सीओ ने एसपी ग्रामीण से कहा था कि पुराने एसएसपी अनंत देव ने एसओ विनय तिवारी पर हाथ रखा है. अनंत देव की वजह से ही विनय तिवारी बोलना सीख गया है. उन्होंने एसपी ग्रामीण को यह भी जानकारी दी थी कि विनय तिवारी डेढ़ लाख रुपए महीने लेकर जुआ खेलाता था. शिकायत पर भी विनय तिवारी पर कार्रवाई नहीं होती थी. यही नहीं एसओ ने जुआ खेलाने वाले से 5 लाख रुपये अनंत देव तिवारी को दिए थे.

CO देवेंद्र मिश्रा और SPRA बीके श्रीवास्तव के बीच की बातचीत के प्रमुख अंश...

- चौबेपुर SO विनय तिवारी ने दबिश से पहले CO को कॉल करके साथ चलने के लिए बनाया था दबाव.

- CO ने SPRA बीके श्रीवास्तव को दी थी SO की इस बात की जानकारी.

- CO ने SPRA को बताया था कि SO विनय तिवारी, विकास दुबे के न सिर्फ पैर छूता है बल्कि दबिश की सूचना अबतक विकास दुबे को विनय तिवारी ने दे दी होगी. पहले वाले एसएसपी अनंतदेव तिवारी का लाडला SO था विनय तिवारी.

- 1.5 लाख रुपये लेकर अपने थाना क्षेत्र में जुआ कराने का आरोप भी CO ने SPRA से बातचीत में SO पर लगाया था.

- सीओ ने कहा था कि मैंने SO से जुआ बन्द कराने को बोला था, अलग थाने का फोर्स लेकर छापा भी मारा था, जुआ पकड़ा भी, लेकिन SSP को 5 लाख रुपये देकर मामला सेट करा लिया.

- CO का आरोप - इसके बाद विनय तिवारी की सभी जांच खत्म हो गई.

- CO देवेंद्र मिश्र - विकास दुबे को अब तक SO ने कॉल करके बता दिया होगा कि CO दबिश देने आ रहा है, SO ने अबतक कह दिया होगा कि तुमसब लोग भाग जाओ अपने घरों से.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज