• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Budget 2021: औद्योगिक नगरी को वित्तमंत्री से बड़ी उम्मीदें, बजट से राहत की आस लगाए हैं कनपुरिए

Budget 2021: औद्योगिक नगरी को वित्तमंत्री से बड़ी उम्मीदें, बजट से राहत की आस लगाए हैं कनपुरिए

कानपुर के व्यापारियों को बजट से काफी उम्मीदें

कानपुर के व्यापारियों को बजट से काफी उम्मीदें

Budget 2021: प्रदेश की औद्योगिक नगरी कहलाने वाले कानपुर को इस साल के बजट से काफी उम्मीदें है. दरअसल कोराना काल में जहां उद्योग धंधे बंद रहे तो वहीं व्यापारियों का व्यापार भी प्रभावित रहा. लॉकडाउन ने व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख दी है.

  • Share this:

कानपुर. कोरोना काल (Corona Pandemic) के बाद पहले आम बजट (Budget 2021) से देशवासियों को काफी उम्मीदे हैं. देशवासी वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Finanace Minister Nirmala Sitharaman) की तरफ आशा की निगाह से देख रहे हैं. पिछले साल जिस तरह से लोगों को वैश्विक बीमारी कोरोना ने बुरी तरह प्रभावित किया, अब उससे उबरने के लिए बजट में क्या व्यवस्थाएं की जाएगी, इस पर पूरे देश की तरह ही उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नगरी कानपुर (Kanpur) के व्यापारी और उद्योगपति भी निगाहें गड़ाए बैठे हैं. नए दशक के पहले बजट से उन्हें काफी उम्मीदें हैं.

प्रदेश की औद्योगिक नगरी कहलाने वाले कानपुर को इस साल के बजट से काफी उम्मीदें है. दरअसल कोराना काल में जहां उद्योग धंधे बंद रहे तो वहीं व्यापारियों का व्यापार भी प्रभावित रहा. लॉकडाउन ने व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख दी है. धीरे-धीरे व्यापार और उद्योग पटरी पर आ रहे हैं. ऐसे में व्यापारियों का कहना है कि इस साल का बजट राहत देने वाला होना चाहिए। जिससे उद्योग-धंधे फलफूल सकें. व्यापारियों का कहना है कि बाजार में पूंजी का फ्लो नही है. जहां रुपया फंसा हुआ वहां से वापस नही मिल रहा है. व्यापारियों का कहना है कि मध्यमवर्ग का ध्यान में रख कर बजट बनाया जाएगा तो उद्योग-धंधों और व्यापार को भी बढ़ावा मिलेगा.

15 लाख तक फ्री हो टैक्स लैब 

प्लाइवुड का कारोबार करने वाले आलोक श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार को 15 लाख तक टैक्स स्लैब फ्री करना चाहिए। जो भी बिल कटते हैं उस पर सरकार आधा फीसदी आयकर सेस लगा दे तो सरकार को भी फायदा होगा और आम आदमी को भी राहत मिलेगी. उद्यमी देश दीप वर्मा ने कहा कि सरकार को केवल टैक्स पर ध्यान देने के बजाए पब्लिक के लिए इनकम के साधन उपलब्ध कराने होंगे. प्रति व्यक्ति आय नहीं बढ़ेगी तो विकास भी नहीं होगा. अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश महामंत्री ने कहा कि कोराना के समय में बैंक का लोन जिन व्यापारियों पर है उस पर कुछ माफी की जानी चाहिए. वहीं इनकम टैक्स की सीमा पांच लाख के ऊपर केवल पांच फीसदी टैक्स लिया जाए. वहीं एमएसएमई के तहत उद्यमियों की तरह व्यापारियों को भी लाभ दिया जाए. उन्होंने कहा कि सेन्ट्रल जीएसटी व्यापारियों को करदाता के रूप में समझे न कि अपराधियों की तरह बर्ताव किया जाए.

वहीं व्यापारियों ने अनवरगंज से मंधना रेलवे लाइन को हटाए जाने की मांग की. उनका कहना है कि इस लाइन के हटने से कानपुर के व्यापारियों को बढ़ी राहत मिलेगी. वहीं उद्यमी मुरारी लाल अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी केवल गरीबों को आगे बढ़ाने के लिए काम करते है. उद्यमियों के लिए कोई राहत होने वाली नहीं है सरकार गरीबों को राहत देगी और अमीरों पर टैक्स बढ़ाने का काम करेगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज