होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

कानपुर में करोड़ों के बंगलों पर रिटायर्ड IPS अधिकारियों का कब्ज़ा, खाली कराने में BIC के छूट रहे पसीने !

कानपुर में करोड़ों के बंगलों पर रिटायर्ड IPS अधिकारियों का कब्ज़ा, खाली कराने में BIC के छूट रहे पसीने !

अवैध कब्जेदारों को BIC ने कपड़ा मंत्रालय के निर्देश पर नोटिस जारी किया है

अवैध कब्जेदारों को BIC ने कपड़ा मंत्रालय के निर्देश पर नोटिस जारी किया है

कानपुर की वीआईपी रोड पर ब्रिटिश इंडिया कार्पोरेशन (British India Corporation)के बड़ी संख्या में बंगले हैं और इन अधिकतर बंगलों पर पिछले 22 सालों से अधिकारियों का कब्जा है.

कानपुर. कपड़ा मंत्रालय (Ministry of Textiles) की करोड़ों की जमीनों पर रिटायर्ड आईपीएस (Retired IPS Officers) अधिकारियों का कब्जा है. जिनको खाली कराने में बीआईसी (British India Corporation) को पसीने छूट रहे हैं. हालांकि बीआईसी ने अवैध रूप से कब्ज़ा किए इन रसूखदारों को नोटिस भेज रहा है व कुछ बंगले खाली कराने में उसे कामयाबी भी मिली है. आरोप है कि रिटायरमेंट के बाद भी अपनी ठसक के चलते अधिकारी बंगले खाली नहीं कर रहे हैं. वहीं घाटे में चल रहे कपड़ा मंत्रालय की मंशा इस संपत्ति को बेच कर ऋण चुकाने की है लेकिन उससे पहले इन अवैध कब्जेदारों को निकालना बड़ी चुनौती है.

22 सालों से काबिज हैं अवैध कब्जेदार
दरअसल कानपुर की वीआईपी रोड पर ब्रिटिश इंडिया कार्पोरेशन (British India Corporation)के बड़ी संख्या में बंगले हैं और इन अधिकतर बंगलों पर अधिकारियों का कब्जा है. रिपोर्ट के मुताबिक बीआईसी के अधिकारी पिछले 22 सालों से इन बंगलों को अवैध कब्जेदारों से खाली नहीं करा पा रहे हैं. वर्तमान में इन बंगलों की कीमत 55 करोड़ से अधिक बताई जा रही है. यहां के कुछ बंगलों पर तो अधिकारी ताला डाले हुए हैं तो कुछ पर अभी भी काबिज हैं. इनमें से एक बंगले को जिसमें शहर में सीओ व एसपी ट्रैफिक रहे आईपीएस सुशील सक्सेना ने कब्जा कर रखा था उसको खाली करा लिया गया है. मगर उनके अलावा और जो कब्जेदार हैं वह कब्जा नहीं छोड़ रहे हैं.

KANPUR,BIC
बंगलों के केयर टेकर राधेश्याम कहते हैं नोटिस तो बहुत आईं


वर्तमान में कपड़ा मंत्रालय के अधीन इन बंगलों को खाली कराने के कपड़ा मंत्रालय के निर्देश पर बीआईसी के अधिकारी इन बंगलों को खाली कराने के लिये जद्दोजहद कर रहे हैं मगर वह बंगले को खाली नहीं करा पा रहे हैं. बीआईसी के स्टेट आफिसर एमके वर्मा बताते हैं कि 2006 से 2011 तक चीफ विजलेंस आफिसर के पद पर तैनात रहे आर अवस्थी अभी भी बंगले पर कब्जा किये हुए हैं वहीं असम कैडर के आईपीएस अधिकारी नोटिसों के बाद भी बंगला खाली नहीं कर रहे हैं. कई बार नोटिस भेजी जा चुकी है. दरअसल कपड़ा मंत्रालय अपनी सम्पत्तियों को खाली कराना चाहता है. ताकि उनको बेचा जा सके और जो कर्ज हैं उनको खत्म किया जा सके. बंगले के केयर टेकर राधेश्याम का कहना है कि नोटिसें तो कई बार आई हैं मगर अधिकारी यहां पर कब्जा किये हुए हैं. अभी तक मात्र एक बंगला खाली हो सका है मगर बाकी पर कब्जा बरक़रार है.

सेवानिवृत्त हो जाने के बाद भी इन बंगलों से अफसर कब्जा नहीं छोड़ रहे हैं. वहीं क्षेत्रीय प्रशासनिक अधिकारी भी इनके दबाव की वजह से मात्र नोटिस भेज कर आगे की कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक इन कब्जेदारों के खिलाफ करोड़ों रुपये का कंपनसेशन भी क्लेम किया गया है. जिसको अभी तक जमा नहीं किया गया है. news 18 संवाददाता ने जब इस मसले पर यहां काबिज एक आईपीएस अधिकारी से बात करनी चाही तो उन्होंने बात करने से मना कर दिया. वहीं बीआईसी के स्टेट आफिसर एमके वर्मा का कहना है कि जो भी अधिकारी कब्जा किये हुए हैं उनको नोटिस दे दी गई है. कुछ अधिकारियों ने बंगले खाली कर दिये हैं मगर कुछ अभी भी कब्जा किये हुए हैं जिनको जल्द ही खाली कराया जायेगा.

ये भी पढ़ें- कानपुर: पुलिस पर बदसलूकी का आरोप, पीड़ित युवती ने लिया Twitter का सहारा

आपके शहर से (कानपुर)

कानपुर
कानपुर

Tags: IPS, Kanpur city news, Kanpur news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर