लाइव टीवी

CAA Protest: बिना अनुमति जुलूस निकालने वालों के खिलाफ कानपुर पुलिस ने किया केस दर्ज
Kanpur News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 30, 2020, 8:44 PM IST
CAA Protest: बिना अनुमति जुलूस निकालने वालों के खिलाफ कानपुर पुलिस ने किया केस दर्ज
कानपुर में बिना अनुमति हजारों लोगों ने CAA के खिलाफ निकाला जुलूस

जुलूस में शामिल कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया वहीं बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर 4 लोगों के खिलाफ नामजद और 150 अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया.

  • Share this:
कानपुर. प्रदेश भर में जगह-जगह CAA व NRC को लेकर चल रहे धरना-प्रदर्शन के बीच कानपुर में एक बार फिर सीएए के विरोध-प्रदर्शन (CAA Protest) के दौरान शहर का माहौल बिगड़ते-बिगड़ते बचा. दरअसल बिना प्रशासन की अनुमति लिए बहुजन मोर्चा ने CAA के खिलाफ जुलूस निकाल दिया जिसमें हजारों की संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए और पुलिस-प्रशासन को शुरूआत में इसकी भनक ही नहीं लगी.

150 से अधिक लोगों के खिलाफ केस दर्ज
बड़े पैमाने पर जुलूस की खबर लगते ही पुलिस-प्रशासन ने आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए जैसे-तैसे भीड़ को बैरिकेटिंग लगाकर रोका. बता दें कि सीएए के विरोध में बहुजन क्रांति मोर्चा ने मोहम्मद अली पार्क से बिना अनुमति जुलूस निकाला जिसकी वजह से इलाके में एक बार फिर से तनाव पैदा हो गया. पुलिस ने परेड ग्राउंड की ओर जा रहे जुलूस को यतीमखाना के पास किसी प्रकार से जबरन रोका. इस दौरान पीएसी व पुलिस फोर्स ने मोर्चा संभाला. इस दौरान बाबू पुरवा, चमनगंज, यतीमखाना, तलाक महल आदि मुस्लिम बहुल इलाके के बाजार पूरी तरह से बंद नजर आए. क्रांति मोर्चा को जुलूस निकालने की प्रशासन ने अनुमति नहीं दी थी. जुलूस में शामिल कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया वहीं बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर 4 लोगों के खिलाफ नामजद और 150 अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया.

लोकल इंटेलिजेंस की बड़ी चूक

गौरतलब है कि दिसंबर माह में भी नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में कानपुर में बड़े पैमाने पर हिंसा भड़की थी बावजूद उसके प्रशासन ने अहतियात नहीं बरता. शहर का माहौल एक बार फिर से तनावग्रस्त हो गया है. वहीं पिछले कई दिनों से शाहीन बाग़ की तर्ज पर मोहम्मद अली पार्क में धरने का दौर जारी है यहां पर बड़ी संख्या में महिलाएं व बच्चे धरने पर बैठे हुए हैं. प्रदर्शनकारी मोहम्मद नफीसा का कहना है कि 'उनका प्रदर्शन इस काले क़ानून के खिलाफ लगातार जारी रहेगा क्योंकि सरकार उनकी मांगों को समझ नहीं रही है और अपनी जिद पर अड़ी हुई है, इसलिए वह अपना विरोध-प्रदर्शन तब तक जारी रखेंगे जब तक सरकार CAA को वापस नहीं ले लेगी'.

वहीं डीएम कानपुर का कहना है कि किसी भी तरह से अगर जनपद की शांति व्यवस्था भंग होगी तो दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और जो भी लोग प्रदर्शनकारियों को भड़का कर सड़कों पर उतार रहे हैं उनके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं सीओ सिटी का कहना है कि कि जिन लोगों ने बिना अनुमति जुलूस निकाला है उनके खिलाफ चमन गंज थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, जिसमें जागेश्वर दयाल कैथल, छेदी, खोटे, एसके सिंह कुशवाहा, जगतपाल व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. वहीं इस पूरे मामले में लोकल इंटेलिजेंस की भी बड़ी विफलता भी सामने आई है क्योंकि शहर में हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी इकट्ठा हो गए और उसे भनक भी नहीं लगी इस मामले की भी जांच कराये जाने के उच्चाधिकारियों ने संकेत दिए.

ये भी पढ़ें- देश के अंदर कुछ लोग पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं: सीएम योगी

 

बिजनौर CAA हिंसा: 48 आरोपियों को मिली जमानत, पुलिस नहीं पेश कर पाई एक भी साक्ष्य

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 8:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर