होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /बहुचर्चित गैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति अटैच करने में पुलिस ने कर दिया 'खेल', जानें पूरा मामला

बहुचर्चित गैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति अटैच करने में पुलिस ने कर दिया 'खेल', जानें पूरा मामला

कानपुर: गैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति जब्तीकरण मामले में एसपी ने बैठी जांच.

कानपुर: गैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति जब्तीकरण मामले में एसपी ने बैठी जांच.

Kanpur News: एसपी आउटर तेज स्वरूप सिंह ने मामले की जांच एडिशनल एसपी आदित्य कुमार शुक्ला को सौंपी है. पूरे मामले में एसप ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

विकास दुबे के 50 करोड़ की संपत्ति का जब्तीकरण कर रही है पुलिस
जब्तीकरण के दौरान 18 लाख के स्कॉर्पियो की कीमत लगाई मात्र 65 हजार रुपये
एसपी आउटर तेजस्वरूप सिंह ने बैठाई जांच

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर पुलिस द्वारा जब्तीकरण की कार्रवाई के दौरान गजब खेल का मामला सामने आया है. यहां पुलिस ने संपत्ति की मूल्य के आंकड़ों में ही खेल कर दिया. दरअसल उत्तर प्रदेश के बहुचर्चित कानपुर बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे की 50 करोड़ की संपत्ति के जब्तीकरण की कार्रवाई चल रही है. इस दौरान उसकी तमाम गाड़ियां, खेत आदि अवैध संपत्ति को जब्त किया जा रहा है.

कुछ समय पहले चौबेपुर पुलिस ने विकास दुबे के घर से उसकी स्कॉर्पियो जब्त की थी. लेकिन स्कॉर्पियो के मूल्यांकन में ही पुलिस ने खेल कर दिया. बताया गया कि जब्त की गई स्कॉर्पियो की कीमत 18 लाख रुपये है. लेकिन पुलिस ने इसकी कीमत सिर्फ 65 हजार रुपये आंकी. मामला एसपी के संज्ञान में आया तो उन्होंने मामले की जांच शुरू करा दी है.

गाड़ी को गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे की संपत्ति में करना था शामिल
स्कॉर्पियो की कीमत मात्र 65 हजार रुपये आंकने का मामला जब एसपी के संज्ञान में आया तो उन्होंने इस पर जांच बैठा दी है. एसपी आउटर ने चौबेपुर पुलिस के खिलाफ जांच शुरू कर दी गई है. वहीं, पूरे मामले में आरटीओ कार्यालय के कर्मचारी भी जांच की जद में हैं. बीती 30 जून 2022 को चौबेपुर थाना क्षेत्र के सहज्योरा गांव में संजीव वाजपेई के खाली प्लाट से विकास दुबे के नाम पर पंजीकृत स्कॉर्पियो, यूपी-78 डीडी 2220 बरामद हुई थी. गाड़ी को गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे की संपत्ति में शामिल करना था.

आपके शहर से (कानपुर)

कानपुर
कानपुर

परिवहन विभाग भी संदेह के दायरे में
पुलिस ने संभागीय परिवहन विभाग से उसका मूल्यांकन कराया तो 18 लाख की गाड़ी की कीमत सिर्फ 65 हजार रुपये आंकी गई थी. जब कार्रवाई के लिए फाइल एसपी आउटर के पास पहुंची तो नौ साल पुरानी गाड़ी की कीमत महज 65 हजार रुपये देखकर वह चौंक गए. इस पर एसपी आउटर ने थाना प्रभारी चौबेपुर कृष्ण मोहन राय के खिलाफ जांच शुरू करा दी है.

एसपी आउटर तेज स्वरूप सिंह ने मामले की जांच एडिशनल एसपी आदित्य कुमार शुक्ला को सौंपी है. पूरे मामले में एसपी आउटर ने बताया की चौबेपुर पुलिस के साथ संभागीय परिवहन विभाग के कर्मी भी जांच के घेरे में हैं. एडिशनल एसपी की रिपोर्ट के आधार पर जो भी जांच में दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Tags: Chief Minister Yogi Adityanath, CM Yogi Aditya Nath, Kanpur news, Kanpur Police, Uttarpradesh police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें