Assembly Banner 2021

Kanpur News: सीनियर सिटीजनों ने दिखाया हौसला, कोरोना वैक्सीन की ली पहली डोज

सीनियर सिटीजनों ने दिखाया हौसला

सीनियर सिटीजनों ने दिखाया हौसला

कानपुर मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल आरबी कमल ने बताया कि जब वैक्सीनेशन (Vaccination) की फर्स्ट डोज के बाद सेकेंड डोज लेने में अगर देरी हो जाती है तो उससे भी कोई समस्या नहीं है.

  • Share this:
कानपुर. कानपुर (Kanpur) में कोविड वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार से हो गई है. कानपुर में पहले दिन सीनियर सिटीजन को कोरोना का टीका लगाया जा रहा है. साथ ही 45 वर्ष से अधिक के ऐसे लोग जिन्हें डायबिटीज, हाइपरटेंशन, सांस और किडनी की बीमारी है, ऐसे लोगों को भी टीकाकरण किया गया. कानपुर में आज 300 लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी गई. इस चरण में वैक्सीनेशन के लिए प्राइवेट नर्सिंग होम्स को भी इजाजत दी गई है. जिसके लिए शहर में केंद्र बनाए गए हैं. वहीं तीन सरकारी अस्पतालों में वैक्सीनेशन हो रहा है तो वही एक निजी अस्पताल में भी वैक्सीनेशन की इजाजत दी गई है. वैक्सीनेशन को लेकर लोगों को जागरूकता और विश्वास में लेने के लिए अस्पतालों में एक्सपर्ट को भी तैनात किया गया है.

एक्सपर्ट के मुताबिक वैक्सीनेशन से किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है. वहीं यह भी बताया जा रहा है कि अगर किसी को वैक्सीन लगने के बाद हल्का बुखार या शरीर पर निशान आते हैं तो उससे कोई भी दिक्कत नहीं है. ऐसे मामले बहुत कम संख्या में हैं जो अलग-अलग शरीर की क्षमता के आधार पर रिएक्ट करते हैं. जिस तरफ से कानपुर में कोविड शील्ड वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है. अब तक इस तरह के केस सामने नहीं आए हैं. इसलिए वैक्सीनेशन से किसी भी प्रकार कि कोई भी दिक्कत नहीं है.

UP News: चॉकलेट देकर सीएम योगी ने किया बच्चों का स्वागत, पूछा- रोज स्कूल आओगे



कानपुर मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल आरबी कमल ने बताया कि जब वैक्सीनेशन की फर्स्ट डोज के बाद सेकेंड डोज लेने में अगर देरी हो जाती है तो उससे भी कोई समस्या नहीं है. लेकिन इस वैक्सीन और वैक्सीनेशन को लेकर जिस तरह से भ्रमित बातें सामने आती हैं. उसे लोगों को एक्सपर्ट की राय और डॉक्टरों की सलाह जरूरी है. जिससे वैक्सीनेशन में उन्हें कोई भी मानसिक भ्रम ना हो. वैक्सीनेशन जल्द से जल्द लोगों तक पहुंचे इसके लिए जिस तरह के इंतजाम किए गए हैं.
पहले रजिस्ट्रेशन और उसके बाद मैसेज के द्वारा जानकारी और उनकी डेट निर्धारित की जाती है. उसके बाद वैक्सीनेशन की प्रक्रिया और फिर एक मैसेज के बाद उनके सेकंड डोज के लिए डेट मिलने से उन्हें वैक्सीनेशन लेने में कोई समस्या नहीं होती.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज