Exclusive Audio: कानपुर पुलिस की नाक के नीचे से इस तरह 30 लाख की रकम ले उड़े किडनैपर
Kanpur News in Hindi

Exclusive Audio: कानपुर पुलिस की नाक के नीचे से इस तरह 30 लाख की रकम ले उड़े किडनैपर
अब पीड़ित परिवार रो-रोकर न्याय की गुहार लगा रहा है.

कानपुर किडनैपिंग (Kanpur Kidnapping) मामले में 2 ऑडियो सामने आए हैं, इसमें अपहरणकर्ता और लड़के पिता के बीच की बातचीत सुनाई दे रही है. एक ऑडियो में अपहरणकर्ता फिरौती नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है. वहीं दूसरे ऑडियो में फिरौती देने का जिक्र है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 15, 2020, 12:30 PM IST
  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में 22 से ज्यादा दिन से अपहृत (Kidnap) युवक को छुड़ाने के मामले में पुलिस पर गंभीर आरोप लग रहे हैं. घरवालों का आरोप है कि पुलिस ने उनसे मकान बिकवाकर खुद अपहरण करने वालों को 30 लाख रुपया भी दिलवा दिया लेकिन भाई को बरामद नहीं कर सकी. न ही मामले में कोई अपराधी पकड़ में आया है.

वहीं अब मामले में 2 ऑडियो सामने आया है, इसमें अपहरणकर्ता और लड़के पिता के बीच की बातचीत सुनाई दे रही है. इसमें अपहरणकर्ता फिरौती नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है. अपहरणकर्ता कह रहा है कि एक सप्ताह में इंतजाम करो, नहीं तो बेटे की लाश उठा लेना.

इस तरह पुलिस की नाक के नीचे से ले गए फिरौती



वही दूसरे ऑडियो में फिरौती की रकम देने का जिक्र है. इस ऑडियो में अपहर्ता और पीड़ित के पिता के बीच बातचीत है. इसमें अपहर्ता उनसे गाड़ी से उतरकर पुल पर आगे बढ़ते आने की हिदायत देता है. इस दौरान पूछता है कि तुम्हारे साथ में कौन है? इस पर पीड़ित के पिता कहते हैं कि मोटरसाइिकल से कोई आ रहा है, मेरे साथ कोई नहीं है.
तेरा लड़बा मंदिर के पास खड़ा है, गाड़ी उठाकर निकलो

इस दौरान अपहर्ता फोन होल्ड करा देता है और कहता है कि तेरे बेटे को छोड़ने के लिए बात हो रही है. इसके बाद अपहर्ता कहता है कि 5 मिनट खड़े रहो. लाइन पर रहो भइया से बात हो रही है. इसके बाद अपहर्ता कहता है कि वहीं से तुम्हारे पास जो झाड़ है, वहीं बैग नीचे कसकर फेंको कि नीचे आ जाए. इसके बाद पीड़ित का पिता बैग फेंक देता है. अपहर्ता कहता है आगे मंदिर पर जा, तेरा लड़का खड़ा है. गाड़ी उठाओ फटाक से निकलो.

दरअसल लाचार बहन अपने अगवा भाई के लिए जब एसएसएपी दफ्तर पहुंची तो मामला उजागर हुआ. वह रो-रोकर पुलिस को कोसती रही.



पहले ऑडियो में अपहर्ता और पीड़ित के पिता के बीच फोन पर बातचीत के प्रमुख अंश

अपहर्ता- क्या सोचा

पीड़ित के पिता- इतना पैसे वाले होते तो पान की दुकान करते?

अपहर्ता- लड़का चाहिए कि नहीं.

पीड़ित के पिता- हां चाहिए.

अपहर्ता- अब कहीं जाना मत, तुम्हारा लड़का तुम्हें मिल जाएगा. जितनी जल्दी तुम पैसे दे दोगे.

पीड़ित के पिता- लड़के से बात करा दो.

अपहर्ता- एक हफ्ते में फोन करूंगा. पैसा जब हाथ में आ जाए तो बात होगी.

मकान और जेवर बेचकर जुटाए थे 30 लाख

कानपुर के बर्रा 5 के रहने वाले चमन यादव का बेटा संजीत लैब टेक्नीशियन है जो 22 जून को बाइक समेत लापता हो गया था. पीड़ित परिवार ने बर्रा थाने में घटना की जानकारी दी, लेकिन पुलिस उसे नहीं तलाश पाई. तीन दिन बाद संजीत के पिता के मोबाइल पर बदमाशों ने फोन करके संजीत को छोड़ने के लिए 30 लाख की फिरौती मांगी, जिसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी. पुलिस ने बदमाशों को पकड़ने के लिए प्लान बनाया और परिवार से कहा कि 30 लाख रुपये का इंतजाम कीजिए. पुलिस का प्लान था कि जब बदमाश फिरौती की रक़म लेने आएंगे तब उन्हें दबोच लिया जाएगा. इस पर पीड़ित परिवार ने बर्रा 5 में अपना मकान 20 लाख रुपए में बेचा और बेटी की शादी के लिए बनवाए जेवर बेचकर 30 लाख रुपये का इंतजाम किया.

पुलिस के सामने से फिरौती की रकम लेकर चम्पत हुए बदमाश

बदमाशों के कहे मुताबिक सोमवार को रकम दे देनी थी. बदमाशों ने गुजैनी फ्लाईओवर पर फिरौती की रकम मंगवाई थी. फ्लाईओवर के आसपास सादे कपड़ों में पुलिस तैनात हो गई थी, लेकिन शायद बदमाशों को पुलिस के प्लान की भनक लग गई थी, लिहाजा ऐन वक्त पर बदमाशों ने प्लान बदला और फिरौती की रकम का बैग फ्लाईओवर के नीचे फेंकने को कहा. बदमाशों की धमकी के चलते परिवार ने फिरौती की रकम फ्लाईओवर के नीचे फेंकी. इसके बाद पुलिस जब तक दौड़ कर उनको पकड़ती, बदमाश बैग लेकर चंपत हो गए.

एसपी साउथ का वीडियो अब वायरल

अब पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्होंने एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता से कहा था कि बैग में कोई चिप लगा दी जाए, जिससे बदमाशों की लोकेशन मिल सके, लेकिन उन्होंने बात नहीं मानी. सोशल मीडिया में अपर्णा गुप्ता का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रही हैं कि पुलिस टीम जब तक डेढ़ दो किलोमीटर दौड़ कर जाती उससे पहले बदमाश बैग लेकर चंपत हो गए.

दुखी बहन का कहना है कि उनके भाई का अपहरण हो गया था. पुलिस ने कुछ नहीं किया. पुलिस ने हमसे 30 लाख रुपया भी दिलवा दिया. अब मेरा पैसा भी चला गया भाई भी नहीं मिला. पुलिस ने मेरे साथ गद्दारी की है. एसपी अपर्णा से जब हमने कहा कि बैग में चिप लगवा दो तो वह हमसे गुस्सा करके कहने लगीं की जाइये इतनी छोटी-छोटी बात के लिए हमारे पास न आया करें.

एसएसपी ने कही दोषी पुलिसवालों पर कार्रवाई की बात

कानपुर पुलिस की फजीहत के बाद एसएसपी दिनेश कुमार पी ने मामले की जांच और दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की बात कही है. एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा कि लापरावही के दोषी पुलिसकर्मियों को बख्सा नही जाएगा. वह खुद पूरे मामले की मॉनिटरिंग कर रहे हैं. जल्द ही युवक और रुपयों की वापसी सुनिश्चित की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading