अपना शहर चुनें

States

कानपुर: CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर पुलिस सख्‍त, Congress नेता समेत 400 लोगों पर FIR दर्ज

पुलिस ने कांग्रेसी नेता और उसके परिवार पर दर्ज किया मुकदमा.
पुलिस ने कांग्रेसी नेता और उसके परिवार पर दर्ज किया मुकदमा.

कानपुर में सीएए (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर पुलिस (Police) ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. महिलाओं को भड़का कर धरने पर बैठाने के आरोप में पुलिस ने 35 नामजद लोगों के साथ 400 पर एफआईआर दर्ज की है. जबकि कानपुर डीआईजी अनंत देव तिवारी ने इस धरने को असंवैधानिक करार दिया है.

  • Share this:
कानपुर. उत्‍तर प्रदेश के कानपुर को शाहीन बाग (Shaheen Bagh) बनाने की साजिश रचने वालों पर पुलिस (Police) ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. महिलाओं को भड़का कर सड़क पर बैठाने के आरोप में पुलिस ने 35 नामजद लोगों के साथ 400 पर एफआईआर दर्ज की है, जिसमें कांग्रेस कार्यकर्ता हाजी वसीक अहमद और उनका परिवार भी शामिल है.

पुलिस ने कांग्रेसी नेता पर दर्ज किया मुकदमा
पुलिस ने कांग्रेसी नेता हाजी वसीक और उनके परिवार को प्रदर्शनकारियों को भड़काने के आरोप में गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है, जिस पर हाजी वसीक ने सफाई देते हुए कहा कि उनकी बेटी के नाम मुकदमा दर्ज किया गया है. जबकि वो दो महीने से यहां है ही नहीं. उन्होंने बताया कि मोहम्मदी अली पार्क में धरने पर बैठी महिलाओं को भड़काने का काम ना तो हमने किया और ना ही मेरे परिवार ने. पुलिस ने हमारे परिवार के खिलाफ जो मुकदमा दर्ज किया है, हम उसके खिलाफ कोर्ट में अपील कर न्याय मांगेंगे.

डीआईजी ने कही ये बात
जबकि कानपुर डीआईजी अनंत देव तिवारी का कहना है कि शहर में धारा 144 लागू थी. इसके बावजूद भी शहर के पार्क में असंवैधानिक तरीके से महिलाओं का धरना चल रहा है. पुलिस और प्रशासन के द्वारा समझाने पर महिलाओं ने धरना खत्म कर दिया था. इसके बाद कुछ लोगों ने भड़का कर उन्हें सड़क पर धरना देने को कहा. शहर की कानून व्यवस्था खराब करने की कोशिश की. इन लोगों की पहचान कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. इसी सिलसिले में चमनगंज थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है. गौरतलब है कि शहर में सीएए को लेकर हुई हिंसा के बाद पुलिस ने तमाम लोगों को चिन्हित कर उनके ऊपर कार्रवाई की थी, जिसके बाद से सीएए के विरोध का मोर्चा महिलाओं ने खोल दिया था. महिलाएं चमनगंज के मोहम्मद अली पार्क में रोजाना 4 घंटे बैठकर धरना प्रदर्शन कर रही थी. 8 फरवरी को डीएम और एसएसपी ने वहां जाकर महिलाओं को समझाया बुझाया और उनका धरना खत्म करा दिया. लेकिन अगले ही दिन कुछ लोगों ने महिलाओं को भड़का कर दोबारा धरना प्रदर्शन शुरू करा दिया.



इस बार उन्होंने धरना प्रदर्शन 4 घंटे का नहीं बल्कि 24 घंटे के लिए शुरू किया. पुलिस ने महिलाओं को जबरन उठाने का प्रयास किया तो महिलाएं पार्क से निकलकर सड़क पर बैठ गई. बाद में बड़ी मुश्किल से पुलिस ने हालात पर काबू पाया और महिलाओं को दोबारा पार्क में शिफ्ट कराया था. पुलिस ने इस सिलसिले में 35 नामजद और 400 अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया है.

 

ये भी पढ़ें-

आजम खान के कार्यकाल में भर्ती हुए 975 इंजीनियर और 325 लिपिक सेवा से बर्खास्त

 

अयोध्या के संत बोले- दो से ज्यादा बच्चे वाले नेताओं को न मिले टिकट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज