जलस्तर बढ़ने से जनजीवन प्रभावित, तंबू लगाकर रह रहे ग्रामीण

बारिश का कहर कानपुर में भी. गंगा के आसपास बसे ग्रामीण घर छोड़कर तंबुओं में रहने को मजबूर.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 12:13 PM IST
जलस्तर बढ़ने से जनजीवन प्रभावित, तंबू लगाकर रह रहे ग्रामीण
गंगा का जलस्तर बढ़ा, घरों में पानी
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 12:13 PM IST
कानपुर में गंगा का जलस्तर बढ़ने से आसपास के गांवों की लगभग 12 हजार की आबादी पर असर. पलायन की सामर्थ्य न होने की वजह से लोग पास के इलाकों में तंबू लगाकर रह रहे हैं.

बारिश का कहर इस साल पूरे भारत में बरपा है. कानपुर जैसा मैदानी इलाका भी इससे अलहदा नहीं. यहां गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. इसकी वजह से तराई में रहने वालों का जीवन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है. नदी का जलस्तर दो सेन्टीमीटर और बढ़ने से ख्योरा कटरी के सात मजरों समेत दीन पुरवा, खपतिया, हिन्दूपुर, प्रतापपुर और हरिगांव की करीब 12000 हजार की आबादी पर असर पड़ा है. घर के घर डूब गए हैं. लोग पलायन कर रहे हैं या फिर सामर्थ्य न होने पर वहीं ऊंचे स्थानों पर रहते हुए पानी के घटने का इंतजार कर रहे हैं.

गंगा बैराज मंधना रोड पर ढेर सारे तंबू लगे हुए हैं और लोग किसी तरह से जीनवयापन कर रहे हैं. एक तरफ प्रशासन बाढ़ पीड़ितों की मदद के बड़े-बड़े दावे कर रही है तो दूसरी तरफ गांववाले बारिश और बाढ़ के आगे असहाय हैं. अब देखना ये है कि प्रशासन कब तक इनकी अनदेखी कर सकता है. (रिपोर्ट-अमित गंजू)

ये भी पढ़ें-

यूपी PWD घोटाला: 6 अफसरों पर कसा शिकंजा, निलंबन की संस्तुति

बिना मेकअप ऐसी दिखती हैं भोजपुरी सिनेमा की ये टॉप-5 अभिनेत्रियां
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर