अपने हित साधते-साधते जातीय लबादा कैसे ओढ़ लेते हैं अपराधी?

न्यूज़18 क्रिएटिव/कार्टून.
न्यूज़18 क्रिएटिव/कार्टून.

यूपी की सियासत में भरे पड़े हैं आपराधिक प्रवृत्ति के विधायक, आखिर पार्टियां क्यों देती हैं दबंगों को टिकट?

  • Share this:
नई दिल्ली. राजनीति के अपराधीकरण और अपराध के राजनीतिकरण की कहानी कोई नई नहीं है. विकास दुबे (Vikas Dubey) की महत्वाकांक्षा भी राजनीति (Politics) में सफल होने की थी. उज्जैन में उसकी गिरफ्तारी के बाद उत्तर प्रदेश की सियासत भी गरमा गई है. आरोप है कि उसे कई प्रमुख पार्टियों के नेताओं का संरक्षण हासिल था. दुबे की जाति के कुछ लोग सोशल मीडिया (Social media) पर उसे अपनी जाति का शिरोमिण बताने में जुटे हुए हैं. सरकार ऐसे लोगों पर कार्रवाई कर रही है. ऐसा हर जाति के अपराधियों को लेकर है. आईए जानते हैं कि आखिर कोई अपराधी किसी जाति के कुछ लोगों के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों हो जाता है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर सुबोध कुमार कहते हैं कि राजनीति में अपराधीकरण तब बढ़ता है जब राज्य का तंत्र कमजोर या फेल हो जाता है. कुछ अपराधी किस्म के लोग अपनी जाति में यह प्रचार करने में कामयाब हो जाते हैं कि अगर इस जाति का सीएम है तो दूसरी जाति की नहीं सुनी जा रही है. यह कहते-कहते वो उस जाति का कथित तौर पर संरक्षण करने लगता है. वो राज्य के सिस्टम के बीच अपना एक साम्राज्य खड़ा कर लेता है.

kanpur encounter case, Kanpur shootout accused vikas dubey, vikas dubey news, criminal leader in UP politics, crime and Caste Angle, yogi government, Ujjain news, कानपुर एनकाउंटर, कानपुर गोलीकांड का आरोपी विकास दुबे, विकास दुबे समाचार, यूपी की राजनीति में अपराधी नेता, अपराध और जाति का एंगल, योगी सरकार, उज्जैन समाचार
कहां-कहां गया विकास दुबे




ये भी पढ़ें: Kanpur Encounter: पुलिस को चकमा देने को विकास ने चुना बीहड़ वाला रास्ता, पढ़ें पूरी कहानी 
प्रो. कुमार कहते हैं ऐसे बदमाश कुछ लोगों के लिए रॉबिन हुड भी बन जाते है. उसके आइकॉन दिखने लगते हैं. जबकि दूसरी जाति के लोगों के लिए खौफ बन जाते हैं. राजनीति संख्या बल का खेल है इसलिए पार्टियां ऐसे प्रभावशाली लोगों को टिकट दे देती हैं और इस तरह वे सियासत में भी आगे बढ़ते चले जाते हैं.  इसीलिए जब सब लोगों को सीओ मिश्रा के परिवार के साथ खड़े होना चाहिए तो कुछ लोग दुबे की हिमायत भी करते नजर आ रहे हैं.

यूपी की सियासत और अपराध का गठजोड़

एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट के मुताबिक, 2019 में चुनकर आए यहां के 80 लोकसभा सांसदों में से 44 पर आपराधिक मामले दर्ज थे. जबकि, 2017 के विधानसभा चुनाव में चुनकर आए 403 विधायकों में से 147 विधायकों पर क्रिमिनल केस (criminal MLA) दर्ज हैं.

ऐसे विधायकों में भाजपा के 114, सपा के 14, बसपा के 5 और कांग्रेस का 1 नेता शामिल है. ये सब अपनी-अपनी जातियों के स्थानीय और क्षेत्रीय आईकॉन हैं. इनमें से अधिकांश अपने हित साधने के लिए जातीय लबादा ओढ़कर सत्ता की सीढ़ियां चढ़ते चले गए.

यूपी की सियासत में कई ऐसे नेताओं ने राज किया है, जो कभी अपराध की दुनिया के बेताज बादशाह थे. विकास दुबे भी अपनी बदमाशी के बहाने राजनीति में आगे बढ़ना चाहता था. अब कई लोग जाति की आड़ लेकर विकास दुबे का भी समर्थन कर रहे हैं.

Kanpur Encounter: पुलिस को चकमा देने को विकास ने चुना बीहड़ वाला रास्ता, पढ़ें पूरी कहानी 

पार्टियां टिकट किसे देती हैं?

2017 के यूपी चुनाव में 403 विधानसभा सीटों के लिए 4,823 प्रत्याशी मैदान में थे. उसमें से 17 फीसदी यानी 859 उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज थे. इनमें से भी 704 पर तो ऐसे गंभीर अपराध के आरोप थे जिनमें 5 साल या उससे ज्यादा की सजा मिलती हो या गैर-जमानती हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज