Home /News /uttar-pradesh /

जिंदा हूं मैं! कानपुर के इस वृद्ध को कर दिया मृत घोषित, अब पेंशन के लिए लगा रहा चक्कर

जिंदा हूं मैं! कानपुर के इस वृद्ध को कर दिया मृत घोषित, अब पेंशन के लिए लगा रहा चक्कर

सोहन लाल को कागजों में मृत घोषित कर दिया गया है.

सोहन लाल को कागजों में मृत घोषित कर दिया गया है.

कानपुर के कल्याणपुर ब्लाक के ग्राम बैकुंठपुर के रहने वाले 70 वर्षीय सोहन लाल, पिछले तीन सालों से खुद को जिंदा दिखाने के लिए अधिकारियों के कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं.

सरकार भले ही बुजुर्गों को गुजर-बसर के लिए पेंशन (Old Age Pension) दे रही है. मगर अधिकारी सरकार की इस मदद का बंदरबांट कर रहे हैं. इसके लिए जिंदा लोगों को ही मृत करार कर दिया जा रहा है. ऐसा ही एक मामला कानपुर (Kanpur) में देखने को मिला, जहां अब तीन साल से कागजों में मुर्दा दिखाया गया व्यक्ति वृद्धावस्था पेंशन के लिये अधिकारियों के चक्कर काट रहा है.

कानपुर के कल्याणपुर ब्लाक के ग्राम बैकुंठपुर के रहने वाले 70 वर्षीय सोहन लाल, पिछले तीन सालों से खुद को जिंदा दिखाने के लिए अधिकारियों के कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं. और अधिकारी उन्हें टरका रहे हैं. दरअसल ग्रामीण क्षेत्रों मे कई बुजुर्गों को मृतक दिखा कर उनकी पेंशनो की बंदरबांट कर दी गई है. अब बुजुर्ग अधिकारियों के कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं. दरअसल सोहन लाल चलने फिरने मे असहाय हैं. वह अपने भतीजे व नाती के साथ अधिकारियों को अपने जीवित होने का प्रमाण देने के लिए रोज सरकारी कार्यालय जाते है, मगर अधिकारी हैं कि सुनने का नाम नही ले रहे.

2016 से बंद है पेंशन

सोहन लाल ने 2013 मे वृद्धा अवस्था पेंशन का आवेदन किया था. 2016 तक उन्हे पेंशन भी मिली, लेकिन अगस्त 2016 के बाद से आज तक उनकी पेंशन नही आ रही है. सोहन लाल के घर के आर्थिक हालात भी अच्छे नहीं हैं. पेंशन से ही उनको सहारा रहता है.

अब अधिकारी जब मामले मे फंसते हुए नजर आ रहे हैं तो वे परिवार के लोगों पर दबाव बना रहे है कि वह पुरानी पेंशन को भूल जाएं और उनकी नई पेंशन शुरु करा दी जाएगी. मगर परिवार के लोगों का कहना है कि उन्हे पूरी पेंशन चाहिए जो पिछले 3 सालों से नहीं मिली है. विभागीय कर्मचारी मामले को दबाने मे जुट गए हैं औऱ कह रहे हैं कि अगर पेंशन चाहिए तो नया आवेदन करो पुराने मामले की फाइले लखनऊ जाती हैं.

Tags: Kanpur city news, Kanpur news, Up news in hindi

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर